शांता बोले केंद्रीय नेताओं का भ्रष्टाचार प्रकरण पर तुरंत संज्ञान लेना प्रशंसनीय प्रयास

कहा सुविख्यात ईमानदार योग्य अधिकारी वाली जांच समिति से कराएं जांच

राजेश व्यास । पालमपुर –

भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं हिमाचल के भूतपूर्व मुख्यमंत्री एवं पूर्व सांसद, शांता कुमार ने कहा है कि हिमाचल प्रदेश के इतिहास में पहली बार एक असाधारण घटना घटी है। स्वास्थ्य विभाग में भ्रष्टाचार का मामला-एक अधिकारी की गिरफ्तारी-उसके तुरन्त बाद केन्द्रीय नेताओं का संज्ञान लेना-फिर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष का त्यागपत्र और एकदम त्यागपत्र को स्वीकार करना एक बहुत बड़ी असाधारण ऐतिहासिक घटना है। उन्होने इसके लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी , भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नडडा, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष डा0 राजीव बिन्दल को बधाई दी हैं।

उन्होने कहा कि 72 वर्ष की आजादी के बाद भी देश किस भयंकर गरीबी से गुजर रहा हेै-इसका एक दृश्य सड़कों पर, स्टेशन के बाहिर भूखे हताश-निराश हजारों प्रवासियों के रूप में दिखाई दे रहा है। लोगों को यह पता लग गया है कि इस गरीबी का सबसे बड़ा कारण भ्रष्टाचार है और भ्रष्टाचार ऊपर के नेताओं से शुरू होता हैं।उन्होनें कहा कि कठोर सच्चाई यह है कि नेताओं पर से जनता का भरोसा समाप्त हो रहा है। नरेंद्र मोदी उस विश्वास को फिर से बनाने का ऐतिहासिक काम कर रहे हैं। ऐसे समय पर हिमाचल में यह कार्यवाही प्रशंसनीय है।

शान्ता कुमार ने कहा कि इस कार्यवाही का पूरा लाभ तभी होगा यदि इसे एक उचित और तार्किक परिणीति पर पहुंचाया जाए। यदि वैसा नहीं हुआ तो जनता का विश्वास बहाल नहीं होगा। पिछले दिनों सोशल मीडिया और समाचार पत्रों की चर्चा में यह लग रहा था कि प्रदेश की जनता यह भरोसा कर रही है कि जांच ठीक नहीं हो रही है-अपराधियों को बचाया जा रहा है। इस दृष्टि से अब सबसे बड़ी जिम्मेवारी प्रदेश सरकार पर है।उन्हांेने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से आग्रह किया है कि शीघ्र अत्यन्त ईमानदार योग्य अधिकारियों की विशेष जांच समिति का गठन करें और निदेशक के साथ बराबर अपराधी पृथ्वी सिंह को तुरन्त गिरफ्तार करें। जांच समिति में ऐसे सुविख्यात योग्य अधिकारी हो कि जनता आश्वस्त हो जाए। यदि यह सब नही हुआ तो यह कहा जायेगा कि क्लीन चिट लेने के लिये केवल नाटक किया है। प्रदेश सरकार व पार्टी की बहुत बड़ी परीक्षा है।