समय 10 से 12 वाला, घर बने पाठशाला : नई पहल

हिमाचल में नई शिक्षा व्यवस्था की शुरूआत

कार्यक्रम के अंतर्गत पहली से आठवीं कक्षा के विद्यार्थियों के लिए इंटरनेट के माध्यम से पाठ्य सामग्री भी उपलब्ध

नार्थ गजट न्यूज। शिमला

शिक्षा मन्त्री सुरेश भारद्वाज ने आज यहां हिमाचल प्रदेश में शिक्षा क्षेत्र पर जानकारी देते हुए कहा कि कोविड-19 के दौरान शिक्षा व्यवस्था के लिए एक बड़ी चुनौती सामने आई है, जिसका प्रदेश सरकार तथा शिक्षा विभाग ने योजनाबद्ध तरीके से समाधान निकालकर विद्यार्थियों की शिक्षा को जारी रखने के प्रबन्ध किए हैं। इस प्रकार प्रदेश में शिक्षा व्यवस्था का नया उदय हुआ है।

शिक्षा मन्त्री ने कहा कि इसके अतिरिक्त ‘लर्निंग फ्राॅम होम-हर घर पाठशाला’ के तहत इंटरनेट के माध्यम से 9वीं, 10वीं तथा 12वीं कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए आॅनलाइन पठन-पाठन कार्यक्रम शुरू किया गया है। उन्होंने कहा कि ‘समय 10 से 12 वाला – हर घर बने पाठशाला’ कार्यक्रम के अंतर्गत पहली से आठवीं कक्षा के विद्यार्थियों के लिए इंटरनेट के माध्यम से पाठ्य सामग्री भी उपलब्ध है।

उन्होंने कहा कि आनलाइन प्रणाली के नए युग ने प्रचलित शिक्षण व्यवस्था को परिवर्तित कर दिया है, जिससे हम सभी को भविष्य में ऐसी परिस्थितियों से निपटने तथा शिक्षा को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाने में सहायता मिलेगी। हिमाचल प्रदेश में कठिन भौगोलिक परिस्थितियों के कारण दुर्गम क्षेत्रों में शिक्षा प्रदान करना अपने आप में ही एक चुनौतीपूर्ण कार्य है, जिसे हिमाचल सरकार प्रभावशाली रूप से निभाती आ रही है, लेकिन कोविड-19 के दृष्टिगत शिक्षा को जारी रखने के लिए ‘हिमाचल दूरदर्शन ज्ञानशाला’ कार्यक्रम के अंतर्गत 10वीं एवं 12वीं कक्षा के विद्यार्थियों के लिए प्रातः 10 बजे से दोपहर 1 बजे तक दूरदर्शन के हिमाचल चैनल पर अध्यापन का प्रसारण किया जा रहा है।

सुरेश भारद्वाज ने कहा कि कोविड-19 के दौर में अभिभावक, अध्यापक तथा विद्यार्थियों के सहयोग से प्रदेश सरकार शिक्षा व्यवस्था को बनाए रखने में सफल हुई है। अभिभावकों को बच्चों के साथ अधिक समय मिल रहा है, जिसका उपयोग वे बच्चों के सर्वांगीण विकास की दिशा में कार्य करके कर सकते हैं। उन्होंने लोगों से आह्वान किया कि ऐसे समय में घर पर ही रहें, बुजुर्गों की देखभाल करें तथा प्रदेश सरकार के प्रयासों में अपना योगदान दें।