फुल स्पीड में कोरोना, हिमाचल में शनिवार को भी 17 नए मामले

कांगड़ा में 6, सोलन में 5, मंडी में 4 और हमीरपुर व ऊना में एक-एक मामला

नार्थ गजट न्यूज। शिमला

हिमाचल प्रदेश में कोरोना के मामलों की रफ्तार थमने का नाम नहीं ले रही है। राज्य में शनिवार को भी 17 लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई। कांगड़ा में 6, सोलन में 5, मंडी में 4 और हमीरपुर व ऊना में एक-एक मामला सामने आया है। कुल मिलाकर देखा जाए तो हिमाचल में कोरोना के मरीजों का आंकड़ा बढ़कर 185 पहुंच गया है। बाहर से लौट रहे लोगों के कारण कोरोना के मामलों की संख्या में एकाएक बढ़ोतरी हुई है।

जानकरी के अनुसार सोलन जिला के नालागढ़ में मिले पांच संक्रमित व्यक्ति पश्चिमी बंगाल से लौटे थे। इसी तरह मुंबई से मंडी लौटे चार लोगों की रिर्पोर्ट भी सकारात्मक पाई गई। पश्चिमी बंगाल से दो माह बाद उना लौटी बारात में दुल्हे का भाई कोरोना संक्रमित निकला। वहीं शिमला के आईजीएमसी अस्पताल में हमीरपुर की किडनी पड़ित महिला में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई। इस महिला का पति पहले से ही कोरोना से संक्रमित है और हमीरपुर स्थित कोविड अस्पताल में उपचाराधीन है।  हमीरपुर जिला सबसे ज्यादा प्रभावित है, जहां सबसे ज्यादा 60 मामले हैं। कांगड़ा में अब तक 49, उना में 20 और सोलन में 19 मामले आ चुके हैं। राज्य के 10 जिलों में कोरोना के सक्रिय मरीज हैं। लाहौल-स्पीति और किन्नौर जिले कोरोना संक्रमण से पूरी तरह मुक्त हैं

मंडी में चार मामले
उपायुक्त ऋग्वेद ठाकुर ने कहा कि मंडी जिला में शुक्रवार रात कोराना संक्रमण के चार पॉजिटिव मामले सामने आए हैं। इनमें तीन मामले जोगिंदरनगर उपमंडल और एक सरकाघाट उपमंडल का है । ये सभी मुंबई से मंडी जिला लौटे थे और संस्थागत क्वारंटाइन केन्द्रों में रह रहे थे। उन्होंने कहा कि इन मरीजों में से एक व्यक्ति को पहले ही सरकाघाट के बलद्वाड़ा स्थित क्वारंटाइन केन्द्र से नेरचैक मेडिकल कॉलेज में शिफ्ट किया गया था और वहीं से उनका सैंपल लिया गया था। वह अब वहीं पर उपचाराधीन हैं। बाकी तीन लोग जोगिंदरनगर स्थित क्वारंटाइन केन्द्र में थे। उन्हें वहां से मंडी के डांगसीधार स्थित जल शक्ति विभाग के प्रशिक्षण संस्थान में बनाए गए कोविड केयर सेंटर में शिफ््ट किया गया है। उनमें कोरोना के कोई प्रत्यक्ष लक्षण नहीं हैं, कुछ दिनों बाद उनके सैंपल पुनः लिए जाएंगे और सैंपल की रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

मुंबई-पुणे से मंडी लौटे 167 लोग

उपायुक्त ने कहा कि प्रदेश सरकार के प्रयासों से पिछले दिनों मुबंई-पुणे से जिन हिमाचल वासियों को ट्रेनों के जरिए वापिस लाया गया था, उनमें मंडी जिला से 167 व्यक्ति थे। उन सभी लोगों को अलग-अलग उपमंडल में संस्थागत क्वारंटाइन केन्द्रों में रखा गया है। उनमें से लगभग 90 के सैंपल अभी तक लिए जा चुके हैं, जिनमें से चार लोग पॉजिटिव आए हैं। अन्यों के सैंपल लेने की प्रक्रिया भी जारी है। इसके अलावा एक ट्रेन रविवार सुबह महाराष्ट्र से पठानकोट आएगी। इसमें अभी उपलब्ध आंकड़े के मुताबिक जिला मंडी के 85 लोग हैं, पूरे आंकड़े मिलने पर ये संख्या इससे अधिक हो सकती है। उन सभी लोगों को वहां से लाने की पूरी व्यवस्था देखने के लिए प्रशासन ने नोडल अधिकारी तैनात किए हैं। उन सभी व्यक्तियों को भी संस्थागत क्वारंटाइन केन्द्रों में रखा जाएगा।उन्होंने कहा कि हाल में दूसरों जिलों में महाराष्ट्र से आए लोगों के कोरोना पॉजिटिव मामले ज्यादा बढ़ें हैं, इसलिए मंडी में भी महाराष्ट्र से आए लोगों के सैंपल प्राथमिकता पर लिए जा रहे हैं। ताकि यदि कोई व्यक्ति संक्रमित हो तो उसका शीघ्र पता चल सके और समय पर इलाज किया जा सके।

कांगड़ा जिला में कोरोना पॉजिटिव के छह नए मामले

उपायुक्त कांगड़ा राकेश कुमार प्रजापति ने कहा कि शनिवार को कांगड़ा जिला में कोरोना पॉजिटिव के छह नए मामले सामने आए हैं जिनमें से पांच नागरिक मुंबई से वापिस आए थे और परौर संस्थागत क्वारंटीन सेंटर में रखा गया था और अब इनको कोविड केयर सेंटर बैजनाथ में शिफ्ट कर दिया गया है इनमें पालमपुर से एक, लंबागांव से दो भवारना से एक तथा एक नागरिक जयसिंहपुर से संबंधित है जबकि एक नागरिक जलंधर से वापिस आया है उसको राजेंद्र प्रसाद मेडिकल कालेज टांडा में रखा गया था। कांगड़ा जिला में अब कोरोना पॉजिटिव रोगियों की संख्या बढ़कर पैंतीस हो चुकी है।
उपायुक्त ने लोगों से अपील की है कि कोरोना संक्रमण से बचने के लिए सभी नागरिक अपने ही घरों में रहें तथा बहुत आवश्यक हो तो ही अपने घरों से निकलें। उन्होंनेे कहा कि कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिये जरूरी है कि प्रशासन और विशेषज्ञों की सलाह का पालन करें। उन्होंने कहा कि बार-बार हाथ धोने, अपने चेहरे को न छूने और सैनिटाईजर के प्रयोग जैसी आम सावधानियों को बरतते हुए, इस संक्रमण से बचा जा सकता है। उन्होंने लोगों से सामाजिक दूरी का पालन करने, घर में बुजुर्गों का ध्यान रखने तथा इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए आयुष मंत्रालय द्वारा संक्रमण रोकने के लिए निर्देशित आरोग्य सेतु मोबाइल ऐप डाउनलोड करने का भी आग्रह किया है।
उपायुक्त ने कहा कि सभी नागरिकों को स्वास्थ्य विभाग के निर्देशों की अनुपालना करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर उनके गांव में या परिवार में बाहरी क्षेत्र से कोई भी व्यक्ति आया हो तो उसके बारे में तुरंत प्रशासन को सूचित करें ताकि एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक पहुंचने वाले इस कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोका जा सके।

त्रिवेंद्रम से ट्रेन के माध्यम से 35 नागरिक पहुंचे हिमाचल

उपायुक्त राकेश प्रजापति ने बताया कि केरल की राजधानी त्रिवेंद्रम से 35 नागरिक ट्रेन के माध्यम से प्रातः दस बजे पठानकोट चक्की बैंक पहुंचे हैं तथा इन नागरिकों को संस्थागत क्वारंटीन सेंटर में भेजा गया है तथा मेडिकल चेकअप किया गया है। उन्होंने बताया कि रविवार प्रातः दो बजे भी महाराष्ट्र के थाने से ट्रेन के माध्यम से नागरिक चक्की बैंक पहुंचेंगे। इन नागरिकों को भी क्वारंटीन सेंटर तथा अन्य जिलों में पहुंचाने का प्रबंध कर लिए गए हैं।