हिमाचल में कोरोना के 7 नए मामले, कुल संख्या 63 पहुंची

मंगलवार को हिमाचल में कोरोना पाजिटिव के 7 नए मामले सामने आए

मेडीकल कालेज टांडा में एक डाक्टर पाजिटिव पाया गया

North Gazette News

हिमाचल प्रदेश में कोरोना एक बार फिर अपना कहर बरपाने लगा है। बाहरी राज्यों से हिमाचल पहंचे लोगों के कारण कोरोना पीड़ितों की संख्या दोबारा बढ़ने लगी है। मंगलवार को हमीरपुर जिला से कोरोना पीड़ितों के दो मामले सामने आए, तो इसी तरह कांगड़ा में 5 नए मामले सामने आए हैं।  देर शाम राजेंद्र प्रसाद मेडीकल कालेज टांडा में एक डाक्टर भी कोरोना पाजिटिव होने की पुष्टि हुई है। कांगड़ा के एसपी विमुक्त रंजन ने इसकी पुष्टि अपने फेसबुक पेज पर कर दी है।

अन्य चार संक्रमित किसी न किसी दूसरे राज्य की यात्रा करने के बाद ही हिमाचल पहुंचे हैं। जानकारी के अनुसार दो केस बैजनाथ और पपरोला क्षेत्रों से बताए जा रहे हैं जबकि तीसरा केस पालमपुर क्षेत्र से बताया जा रहा है। बैजनाथ और पपरोला में संक्रमित पाए गए इन दोनों केसों की टैवल हिस्टरी बताई जा रही है जो हाल ही में दिल्ली से वापिस आए थे। लेकिन पालमपुर से संबधित केस की कोई पुख्ता जानकारी अभी तक नहीं मिली है। बताया जा रहा है कि पालमपुर का यह व्यक्ति अस्पताल में फलू ओपोडी में अपना चैकअप कराने आया था। इस तरह अब कांगड़ा जिले में कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 10 हो गई है।इन कोरोना पाजिटिव केसों में एक व्यक्ति को पुलिस कर्मचारी बताया जा रहा है जोकि पंचरूखी पुलिस स्टेशन में कार्यरत है। उपायुक्त कांगड़ा राकेश कुमार प्रजापति ने कहा कि कांगड़ा जिला के जमानाबाद, कुल्थी(दौलतपुर), पंचरूखी व पपरोला में मंगलवार कोे कोरोना पाजिटिव के चार नऐ मामले सामने आए हैं। अब कांगड़ा जिला में कोरोना पॉजिटिव के कुल 10 एक्टिव केस हो गए हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना पॉजिटिव के संपर्क में आए लोगों की पहचान की जा रही है तथा उनके भी सेंपल लिए जाएंगे।

उधर हमीरपुर जिला के सुजानपुर उपमंडल से दो मामले सामने आए। ये दोनों ही हाल ही में दिल्ली से हिमाचल पंहुचे हैं।इन सभी मामलों को मिलाकर अभी तक हिमाचल प्रदेश से 63 कोरोना पाजिटिव केसों की पुष्टि हो चुकी है।

कांगड़ा जिला में 45000 नागरिकों की जा रही है निगरानी

उपायुक्त राकेश प्रजापति ने कहा कि कांगड़ा जिला में बाहरी राज्यों या अन्य क्षेत्रों से आए 45000 के करीब नागरिकों की निगरानी की जा रही है तथा इस बाबत जिला प्रशासन के पास नागरिकों का पूरा डाटाबेस तैयार है जो कि संबंधित उपमंडलाधिकारियों एवं विकास खंड अधिकारियों को भी उपलब्ध करवाया गया है। उन्होंने कहा कि बाहरी राज्यों या क्षेत्रों से आए नागरिकों को 28 दिन के लिए घर में ही रहने के निर्देश दिए गए हैं तथा इसकी निगरानी सुनिश्चित करने के लिए सभी विकास खंड अधिकारियों को पंचायत स्तर से नियमित तौर पर रिपोर्ट भेजने के लिए भी कहा गया है। उन्होंने कहा कि उपमंडलाधिकारियों को भी निर्देश दिए गए हैं कि होम क्वांरटीन किए नागरिकों की सुचारू निगरानी सुनिश्चित हो इस के प्रत्येक पंचायत प्रतिदिन रिपोर्ट भेजना भी सुनिश्चित करें. इसी तरह से शहरी क्षेत्रों के नगर निगम, नगर परिषद तथा नगर पंचायतों के अधिकारियों तथा वार्ड मेंबरों को भी बाहर से आए नागरिकों के होम क्वारंटीन की निगरानी सुनिश्चित करनी होगी।

बाहरी राज्यों से आए नागरिकों के लिए जाएंगे रेंडम सेंपल

उपायुक्त राकेश कुमार प्रजापति ने कहा कि बाहरी राज्यों से आए नागरिकों के कोविड-19 के लिए रेंडम सेंपल भी लिए जाएंगे इस के लिए स्वास्थ्य विभाग को दिशा निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि बाहरी या अन्य राज्यों से आए लोगों को होम क्वारंटीन में रहना होगा तथा इसकी नियमित तौर पर निगरानी भी सुनिश्चित की जा रही है, पंचायत स्तर से प्रतिदिन की रिपोर्ट भी जिला कंट्रोल में प्रेशित करने के दिशा निर्देश दिए गए हैं।