28 छात्राओं के लिए मददगार बनीं महिला हेल्पलाइन

मुख्यमंत्री के फेसबुक पेज से मिली जानकारी

राजेश व्यास। पालमपुर

एसडीएम कार्यालय पालमपुर की महिला सुविधा सेवा केंद्र हेल्पलाइनदिल्ली में फंसी 28 छात्राओं के लिए बहुत मददगार साबित हुई है। पिछले 40 दिनों से दिल्ली में फंसी इन छात्राओं की सहायता से सभी की घर वापसी का रास्ता प्रशस्त हुआ है। पालमपुर उपमण्डल में दैहण के भारतीय जन सेवा संस्थान मातृछाया छात्रावास छात्राएं हिमाचल सरकार और पालमपुर प्रशासन की तवरित सहायता उपलब्ध करवाने से काफी खुश हैं।

छात्रावास की संचालिका शीतल बताया कि हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के फेसबुक पेज पर उन्हें कोरोना महामारी जैसी आपदा में महिलाओं की सहायता और परामर्श के लिये पालमपुर प्रशासन द्वारा महिला सुविधा सेवा केंद्र के नाम से महिला हेल्पलाइन की जानकारी प्राप्त हुई। यहां उपलब्ध मोबाईल नंबर 7649986000 पर डॉयल करने पर उनकी बात हेल्पलाईन में तैनात एक महिला अधिकारी से हुई। उनकी बात बड़ी ही सहजता से सुना तथा समझा गया और छात्राओं की समस्या को उच्च अधिकरियों तक पहुंचाया।

शीतल के मुताबिक उत्तर-पश्चिम राज्यों असममेद्यालय और नागालैंड की 28 छात्राएं भारतीय जन सेवा संस्थान मातृछाया छात्रावास शिव मंदिर दैहण तहसील पालमपुर में रहती हैं। यह सभी राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला दैहण में पहली से 12वीं तक कक्षाओं में शिक्षा ग्रहण कर रही हैं। देश में लॉकडाउन से पूर्व सभी बच्चें अपने घरों के लिए मारण्डा से पठानकोट के लिए बस से निकले तथा 22 मार्च को रेल मार्ग से पठानकोट से दिल्ली पहुंचे। दिल्ली से रेल मार्ग से ही छात्राओं को अपने-अपने राज्यों के लिए रवाना होना था और इसकी पहले से बुकिंग करवाई गई थी। लॉकडाउन और कर्फ्य में रेल गाड़ियां की आवाजाही पर प्रतिबंध लगने के कारण छात्राएं दिल्ली में सनातम धर्म मंदिरनेहरू नगर में पिछले 40 दिनों से फंसी हैं। दिल्ली जैसे रैड जोन क्षेत्र में फंसे होने के कारण बच्चें और उनके अभिभावक बहुत परेशान हैं।

देश में रेलगाड़ियों की कुछ आवाजाही आरंभ हुई तो छात्राओं को अपने घरों तक पहुँचने की आस जगी। लेकिन पहले भुगतान किया रेल किराया वापिस नहीं हो पाना इनकी घर वापसी में आड़े आने लगा। पैसे की कमी से रेल किराया पूरा करने में अस्मर्थ छात्राओं के सहयोग के लिए पालमपुर प्रशासन आगे आया।

 शीतल ने बताया कि महिला हेल्पलाईन में बात करने के उपरांत एसडीएम पालमपुर धर्मेश रामोत्रा फोन कर उनका हाल जाना। उनकी समस्या को समझा और किराये के लिए कम हो रही राशि के लिए उनका खाता नंबर लेकर आज उनके खाते में पैसे भी ट्रांसफर कर दिये। मुख्यमंत्री के फेसबुक पेज पर उपलब्ध जानकारी और महिला सुविधा सेवा केंद्र हेल्पलाइन उनके लिए वरदान सिद्ध हुई। उन्होंने बताया कि महिला सुविधा सेवा केंद्र हेल्पलाइन पालमपुर के संपर्क में आने से प्राप्त सहायता के लिए सभी छात्राएं मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का आभार प्रकट किया।      

     पालमपुर प्रशासन ने महिलाओं के लिए महिला सुविधा सेवा केंद्र हेल्पलाइन आरंभ की है। महिलाओं की समस्यायों पर केंद्रित तथा महिलाओं द्वारा ही संचालित महिला सुविधा सेवा केंद्र हेल्पलाइन बड़ी कारगर सिद्ध हो रही है। महिलाओं की सहायता तथा सेवा में इसके काफी सार्थक परिणाम सामने आ रहे हैं। महिलाओं पर ही केंद्रित इस हैल्पलाईन में प्रतिदिन दर्जनों कॉल आ रही हैं

      एसडीएम धर्मेश रामोत्रा ने बताया कि लॉकडाउन और कर्फ्यू में महिलाएं भी अपनी समस्याओं को सहजता से प्रशासन के सामने रख सकें इसी विचार से पालमपुर में महिला सुविधा सेवा केंद्र हेल्पलाइन आरंभ की गई है। उन्होंने कहा कि महिला अधिकारियों के तैनात होने से महिलाएं अपनी बात बेहतर और सरलता से बताकर खुश हैं। उन्होंने बताया कि महिला सुविधा सेवा केंद्र हेल्पलाइन में शीतल की कॉल आया कि वे 28 छात्राओं के साथ दिल्ली में फंसी हैं। मेरे ध्यान में मामला आने के बाद मैंने स्वयं फोन पर शीतल से बात की और उसे हरसंभव मदद का भरोसा दिलाया। उन बच्चों के किराये के लिए पालमपुर प्रशासन ने 30 हजार रुपये की मदद पहुँचा दी है ताकि बच्चे अपने घर पहुंच सकें।

–0–