विधानसभा अध्यक्ष परमार ने थपथपाई प्रशासन की पीठ

राजेश व्यास। पालमपुर

विधान सभा अध्यक्ष विपिन सिंह परमार ने सोमवार को सुलह हलके के अंर्तगत रह रहे प्रवासी मजदूरों को दी जा रही राहत कार्यों का जायजा लिया। विधान सभा अध्यक्ष ने कहा कि कोरोना वायरस ने महामारी का रूप लिया है और इससे सारी दुनियां चिंतित है। उन्होंने कहा कि सरकार के साथ-साथ प्रदेश के लोग भी इस राष्ट्रीय आपदा में बढ़-चढकर आगे आ रहे हैं और तन, मन, धन से सहयोग दे रहे हैं। उन्होंने लोगों का इस सहयोग के लिए आभार प्रकट किया। उन्होंने कहा कि जरूरत मंद लोगों की सहायता के लिए प्रदेश की जनता द्वारा जुटाये जा रहे संसाधन भी बहुत महत्वपूर्ण सहयोग दे रहे हैं।

परमार ने कहा कि लोगों की सुरक्षा के लिए देश के प्रधानमंत्री द्वारा जो भी अपील की गई लोग उसका पूरी ईमानदारी के साथ पालन कर रहे हैं, ताकि कोरोना हराया जा सके। उन्होंने जिला प्रशासन द्वारा प्रवासी लोगों की सहायता के लिए किये जा रहे सभी प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि प्रशासन पूरी मुस्तैदी से कार्य कर रहा है, ताकि कोई भी व्यक्ति भूखा न रहे। उन्होंने प्रदेश के सभी लोगों का कोविड़-19 से लड़ने के लिए प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री राहत कोष में अपना सहयोग देने के लिए आभार प्रकट किया। उन्होंने कहा कि सुलह हलके के लोगों भी इसमें अपनी सामर्थ्य के अनुसार सहयोग दे रहे हैं।

आज सुलह हलके के रझूं, गादियाड़ा, झरेठ, चंबी के लोगों ने 52 हजार, पनियाली, लाहड़ठाकरां, भदरोल, गग्गल-खोली के लोगों ने 53 हजार, धीरा, डईं, गग्गल के लोगो ने 45 हजार, पनापर के लोगों ने 81 हजार, खड़ोठ के लेागों ने 33 हजार, परौर के लोगों ने 31 हजार, डूहक, कोना के लोगों ने 25 हजार, थुरल के लोगों ने 25 हजार, चूला के लोगों ने दस हजार 700, बैरघट्टा के लोगों ने 5 हजार 500, थुरल के लोगों ने 15 हजार 100, मूंढ़ी के लोगों ने दस हजार, भ्रांता के लोगों ने दस हजार, ठाकुर सिंह ने 21 हजार, मैले मूंढ़ी के लोगों ने 27 हजार, ननाओं के लोगों ने 8800 रुपये मुख्यमंत्री कोविड फंड में दिए गये।