समय पर पर एंबुलेंस न मिलने के कारण महिला की मौत

राजेश व्यास। पालमपुर

पिछले कल सोमवार को पालमपुर के पास मारंडा की एक महिला को अचानक तबीयत खराब होने के कारण बड़ी मुश्किल के बाद सिविल अस्पताल पालमपुर ले जाया गया। इसके बाद उस महिला को वहां से टांडा रेफर कर दिया गया। लेकिन टांडा से कुछ देर बाद चंडीगढ़ रेफर कर दिया गया। सारी रात कई घंटे बीत जाने पर भी एंबुलेंस का कोई प्रबंध नहीं हुआ।लाकडाउन के चलते अस्पताल प्रशासन भी लाचार दिखा। परिवारजन यह समझ नहीं पा रहे थे कि क्या करें और किसके आगे मदद की गुहार लगाएं। इस बेचारी महिला की समय बीतने के साथ ही तबीयत बिगड़ती चली गई। प्रातः साढ़े पांच बजे के करीब एम्बुलेंस का प्रबंध हुआ। लेकिन चंडीगढ़ पहुंचते ही महिला ने दम तोड़ दिया। परिवार के लोगों का आरोप है कि एम्बुलेंस का प्रबंध अगर समय पर करवा दिया जाता तो कीमती जान बचाई जा सकती थी। इस घटना से स्थानीस लोगों व परिवारजनों में आक्रोश है।

आजकल लाकडाउन के चलते न जाने कितने ही लोगों को इस तरह की समस्याओं से दोचार होना पड़ रहा है। जिन लोगों की लाइफ सेविंग दवाईयां खत्म हो गई हैं उन्हें इन दवाईयों को मेडीकल कालेजों के पास बड़े मेडीकल स्टोरों से ही लेना पड़ रहा है। ऐसे लोगों का मानना है कि कोरोना तो दूर है लेकिन दवाईयां न मिलने के कारण उन्हें मृत्यु अवश्य ही करीब नजर आ रही है। ऐसे में ईश्वर ही मालिक है ।