कांगड़ा जिला में लौटे 9800 लोग विभिन्न स्तरों पर निगरानी पर

North Gazette News/ Dharamshala

28 मार्च को 16 कोरोना संदिग्धों की सेंपल की रिपोर्ट प्राप्त हुई है जिसमें सभी मामले नेगेटिव पाए गए हैं इनमें 13 लोग कोरोना पॉस्टिव के संपर्क में थे। जबकि 28 मार्च को कोरोना संदिग्धों के आठ सेंपल लिए गए हैं। कांगड़ा जिला में विदेश से लौटे 802 नागरिकों तथा विभिन्न राज्यों से कांगड़ा जिला में लौटे 9800 लोगों को विभिन्न स्तरों पर निगरानी पर रखा गया है। 28 मार्च को कांगड़ा जिला में आठ गाड़ियां ब्रेड की, 190 सब्जियों के वाहन, सत्तर वाहन दूध के, 22 गाड़ियां रसोई गैस की, पेट्रोल डीजल की 22 वाहन तथा अनाज की 76 गाड़ियों के माध्यम से आपूर्ति सुनिश्चित की गई है। जिला मेें खाद्य सामग्री की पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित की जा रही है। इसके अतिरिक्त जिला के स्थानीय किसानों से 70 क्विंटल सब्जियां एकत्रित तथा विक्रय की गई हैं। गुरदासपुर, जलंधर, पठानकोट सब्जी मंडियों से भी सब्जियों की आपूर्ति हो रही है।
जिला कांगड़ा में अब तक प्रशासन तथा रेडक्रास सोसाइटी के माध्यम से 3500 परिवारों को सात से दस दिन तक का राशन उपलब्ध करवाया गया है। इसके साथ ही स्वैच्छिक संस्थाओं तथा आम नागरिकों से प्रशासन ने अपील की है कि वे अपने स्तर पर राशन वितरण के लिए घरों से बाहर नहीं निकलें अन्यथा कर्फ्यू तोड़ने की कानूनी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। जिसके पास भी अधिक मात्रा में राशन उपलबध है तथा दान करने का इच्छुक है तो उपमंडल प्रशासन के साथ संपर्क कर सकता है। जिला प्रशासन की वेबसाइट तथा फेसबुक पर सभी उपमंडलाधिकारियों के संपर्क नंबर उपलब्ध हैं।
पंजाब से कांगड़ा जिला में तूड़ी की आपूर्ति सुनिश्चित कर दी गई है तथा 35 बेंडर के नंबर सार्वजनिक किए गए हैं किसी क्षेत्र में तूड़ी उपलब्ध नहीं होने पर उपमंडल प्रशासन से संपर्क कर सकते हैं।
जिला दंडाधिकारी द्वारा आदेश जारी कर जिला के विभिन्न क्षेत्रों के 25 दवाई विक्रेताओं का व्हॉटसऐप गु्रप बनाया गया है। ये दवाई विक्रेता विशेष परिस्थितियों में आवश्यक दवाइयों की होम डिलीवरी भी सुनिश्चित करेंगे इनके नंबर भी जिला प्रशासन की बेवसाइट तथा फेसबुक पर सार्वजनिक किए गए हैं। जिला प्रशासन द्वारा उत्तर भारत से दवाईयां लाने के लिए इन विक्रेताओं को वाहन ले जाने की अनुमति भी प्रदान की जाएगी।
डायलेसिस के रोगियों के लिए क्या व्यवस्था की गई है।
कांगड़ा जिला में डायलेसिस के 64 रोगी चिह्न्ति किए गए हैं तथा इन रोगियों को यातायात की सुविधा प्रशासन द्वारा उपलब्ध करवाई जाएगी तथा उक्त रोगी धर्मशाला के डायलेसिस सेंटर या डा विक्रम कटोच मोबाइल नंबर 9816599899 पर संपर्क कर सकते हैं। जिला कांगड़ा में कर्फ्यू लगाया गया है तथा किसी भी स्तर बाहर कोई भी नगारिक कांगड़ा जिला में प्रवेश नहीं कर सकता है।सुबह आठ से दोपहर 11 बजे तक समय में ही कर्फ्यू में ढील दी गई है तथा इसी दौरान पशुओं के लिए घास त था अन्य कार्यों को निपटाने के निर्देश हैं।
उपायुक्त राकेश प्रजापति ने कहा कि कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए सामाजिक दूरी जरूरी है तथा प्रशासन द्वारा लोगों को घरों में रहने की बार बार अपील की जा रही है। उन्होंने कहा कि अगर लोग जिला प्रशासन तथा स्वास्थ्य विभाग के निर्देशों की सही तरीके से अनुपालना सुनिश्चित करेंगे तो निश्चित तौर पर कोरोना संक्रमण को फैलने से रोका जा सकता है। उन्होंने अपील करते हुए कहा कि सब्जियों, खाद्य वस्तुओं तथा मेडिकल स्टोरों पर भी भीड़ ज्यादा न होने दें तथा एक निश्चित दूरी बनाकर ही खाद्य वस्तुएं खरीदें। उन्होंने कहा कि खाद्य वस्तुओं के घरों में भंडारण करने की भी आवश्यकता नहीं है क्योंकि प्रशासन द्वारा खाद्य वस्तुओं की सप्लाई सुचारू करने के लिए कारगर कदम उठाए हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना को लेकर अफवाहों से बचें तथा घर में सुरक्षित रहें।