हनी सिंह का गीत समाज को दूषित करने वाला: हाईकोर्ट

गायक के खिलाफ कार्रवाई न करने पर पंजाब सरकार को फटकार
हाईकोर्ट ने मामले में हरियाणा सरकार व चंडीगढ़ प्रशासन को जारी किया नोटिस
चडीगढ़।
पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट ने युवाओं से आह्वान किया है कि वे हनी सिंह जैसे अश्लील गीत गाने वाले गायकों को सुनना बंद करें जो हमारी संस्कृति को दूषित कर रहे हैं। युवाओं को ऐसे अश्लील और भद्दे गानों का विरोध कर उन्हें सुनना बंद कर देना चाहिए। हाईकोर्ट ने मैं हूं बलात्कारी गीत गाने वाले गायक हनी सिंह के खिलाफ कार्रवाई न करने पर मंगलवार को पंजाब सरकार को कड़ी फटकार लगाई। कार्यवाहक चीफ जस्टिस जसबीर सिंह व जस्टिस राकेश कुमार जैन की खंडपीठ ने कहा कि पंजाब सरकार चाहे तो आसानी से हनी सिंह पर केस दर्ज कर सकती थी लेकिन सरकार ने ऐसा नहीं किया गया।
खंडपीठ ने हनी सिंह के अदालत में पेश न होने पर उसे दोबारा सम्मन जारी करते हुए 4 जुलाई के लिए पेश होने के निर्देश दिए हैं। हाईकोर्ट ने 4 जुलाई को हनी सिंह की पेशी को हर हाल में सुनिश्चित करने के लिए उसे साधारण डाक, रजिस्टर्ड डाक और ई-मेल से सम्मन जारी करने के निर्देश दिए। इस दौरान कोर्ट परिसर में हनी सिंह को देखने के लिए युवाओं की खासी भीड़ थी। हाईकोर्ट परिसर में हनी सिंह को देखने पहुंचे युवाओं को नसीहत देते हुए कोर्ट ने कहा कि उन्हें आगे बढकर ऐसे अश्लील गायकों का विरोध करना होगा।
खंडपीठ ने इस मामले में हरियाणा सरकार व चंडीगढ़ प्रशासन को भी नोटिस जारी कर जवाब तलब कर पूछा है कि उन्होंने इस तरह के अश्लील गानों को रोकने के लिए क्या कदम उठाए हैं। अदालत ने कहा कि गाने को गुडगांव में रिकार्ड किया गया है और प्रशासन यह कह कर अपना पल्ला नहीं झाड़ सकता कि इसकी रिकॉर्डिग अनजान जगह पर हुई और फिर इसे यू-ट्यूब पर लोड किया गया हो।
नवांशहर की एक स्वयं सेवी संस्था हयूमन इंपवारमेंट लीग ऑफ पंजाब (हेल्प) की तरफ से दाखिल याचिका में कहा गया कि हाल ही हनी सिंह के गीत मैं हूं बलात्कारी का उदाहरण देते हुए कहा गया कि इस तरह के गीत सार्वजनिक स्थल पर बजाए जाने पर प्रतिबंध होना चाहिए। स्वतंत्रता के अधिकार का इस तरह दुरुपयोग नहीं किया जा सकता।
गौरतलब है कि हनी सिंह के कई अन्य गीतों पर भी सामाजिक संगठन आपत्तियां दर्ज करा चुके हैं।