हमीरपुर जिला में आधार पहचान पत्र बनाने की प्रक्रिया पुन: शुरू

हमीरपुर, 06 दिसंबर ।

आधार पहचान पत्र बनाने (पंजीकरण करवाने )का कार्य जिला में पुन: आरम्भ हो चुका है। इस के लिए ब्लाक स्तर पर आधार प्रकोष्ठ स्थापित किए गए हैं। जो व्यक्ति आधार पहचान पत्र बनाने से वंचित रह गए हैं वह विकास खण्ड अधिकारी, हमीरपुर, भोरंज, सुजानपुर, बमसन, नादौन व बिझड़ी के कार्यालय में स्थापित आधार प्रकोष्ठ में सम्पर्क स्थापित कर सकते हैं।

हमीरपुर जिला के उपायुक्त राजेन्द्र सिंह ने बताया कि आधार पहचान-पत्र बनाने के लिये वोटर आईडी कार्ड , पैन कार्ड, पासपोर्ट , सरकारी फोटो पहचान-पत्र, पैन्शन कार्ड, एनआरजीएस जॉब कार्ड, एमजी रोज़गार गारंटी जॉब कार्ड मनरेगा, पोस्ट आफिस एकाऊंट स्टेटमैंट/पास बुक, बिजली बिल (तीन माह से अधिक पुराना नहीं होना चाहिए), पानी बिल ( तीन माह से पुराना नहीं होना चाहिए) इत्यादि में से एक का होना अत्यंत जरूरी है इसके अतिरिक्त बच्चे पांच साल से कम आयु के बच्चों के लिए जन्म प्रमाण-पत्र तथा अभिभावक की कोई एक पहचान साथ लेकर आएं।
उन्होंने कहा कि निवास स्थान की पहचान के लिये राशन कार्ड, ड्राईविंग लाईसेंस, एमजी रोज़गार गारंटी जॉब कार्ड मनरेगा, पासपोर्ट, बैंक स्टेटमेंट/पास बुक , पेंशन कार्ड में से एक दस्तावेज अवश्य साथ लाएं।
उपायुक्त ने कहा है कि जिन व्यक्तियो को आधार कार्ड प्राप्त हो चुके हैं लेकिन आधार कार्ड में कोई त्रुटि है, वे समाधान हेतू खण्ड विकास कार्यालय में स्थापित आधार प्रकोष्ठ में सम्पर्क स्थापित कर सकते हैं।
मुख्यमंत्री प्रो0 प्रेम कुमार धूमल द्वारा जिला हमीरपुर में 25 जनवरी , 2011 को आधार पहचान पत्र बनाने का शुभारम्भ किया था तदोपरान्त 21 फरवरी, 2011 से 31 मार्च, 2012 तक 2011 की जनगणना के आधार पर जिला हमीरपुर की 4,54,293 जनसंख्या में से 4,47,506 व्यक्तियों के आधार पहचान पत्र बना कर 98.50 प्रतिशत लक्ष्य अर्जित कर लिया गया था।