पर्यटन को निखारने के लिए बुनियादी सुविधाएं प्रदान करेगा हिमाचल

शिमला, 06 दिसंबर ।

हिमाचल प्रदेश जल्द की पर्यटन की दृष्टि से भारत के मानचित्र पर एक नए रूप में सामने आने जा रहा है। हिमाचल प्रकृति से भरपूर और यहां पर पर्यटन की आपार संभावनाएं मौजूद है। लेकिन प्रदेश में पर्यटकों के लिए बुनियादी सुविधाएं न होने के कारण यहां पर पर्यटन को वो आयाम नहीं मिल रहा है जो मिलना चाहिए। इसी के मद्देनजर पर्यटन विभान अब प्रदेश में आने वाले पर्यटकों के लिए हर प्रकार की सुविधाएं प्रदान करने का निर्णय लिया है। वीरवार को शिमला में पर्यटन विभाग के साथ एक समीक्षा बैठक के बाद मुख्स सचिव एस. राय ने कहा कि प्रदेश में पर्यटकों के लिए विभाग द्वारा जल्द की 75 पार्किग स्थल वनाने की योजना है। इससे लिए हिमाचल को केन्द्र सरकार सर्शत सहायता भी मिलेगी। उन्होंने कहा कि पर्यटकों के लिए 40 नए सार्वजनिक शौचालय वनाए भी वनाए जा रहे हैं। ये सार्वजनिक शौलालय सभी आधुनिक सुविधाओं से भरपूर होंगे।
उन्होंने कहा कि हिमाचल में हवाई और रेल यात्रा नाममात्र की है इसलिए अधिकतर पर्यटक यहां सकड़ के माध्यम से आते हैं। इसलिए सडक़ों को बेहतर करने पर अधिक ध्यान दिया जा रहा है। राय ने कहा कि पर्यटन विभाग को केन्द्र से 31 दिसबंर तक 86 करोड़ रूपये खर्च करने लिए मिले थे जिनमें से 52 करोड़ खर्च कर दिए हैं और 34 करोड़ को खर्च किया जा रहा है।
उन्होंने बताया कि प्रदेश में इस वर्ष एक करोड़ 50 लाख स्वदेशी पर्यटक घूमने आए जो पिछले वर्ष से चार लाख अधिक है। इस वर्ष अक्तूबर तक प्रदेश में पर्यटन में दस दशलव दो छ: प्रतिशत का विकास हुआ है।
मुख्य सचिव सुदृप्तो रॉय जो पर्यटन विभाग के सचिव भी हैं, ने कहा कि केन्द्र ने प्रदेश में पर्यटन के विकास के लिए विभाग ने होम स्टे जैसी नई नई योजनाएं वनाई हैं। उन्होंने कहा कि कांगड़ा के मसरूर में दिसबंर महीने के अंतिम सप्ताह में कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। इसकी शुरूआत पिछले साल से हुई थी। उन्होंने कहा कि पर्यटन को सुविधाएं प्रदान करने के लिए पर्यटन विभाग अन्य विभागों से तालमेल रखेगा जिससे कि बुनियादी सुविधाओं की कोई कमी न हो।
प्रदेश में पर्यटन के विकास की अपार सम्भावनाएं उपलब्ध होने का उल्लेख करते हुए मुख्य सचिव ने प्राकृतिक सौन्दर्य के चलते प्रदेश को पर्यटन गन्तव्य स्थल बनाने पर बल दिया। उन्होंने कहा कि प्राकृतिक सौन्दर्य के अतिरिक्त प्रदेश में पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए उपलब्ध साहसिक खेलं, धार्मिक पर्यटन, शान्तिपूर्ण व सुरक्षित माहौल तथा देश की राजधानी के समीप होने का लाभ लिया जा सकता है।