एआईजी पर हमले के आरोपी गिरफ्तार

सुखबीर बादल ने कहा अकाली दल का इसमें कोई लेना देना नहीं
चंडीगढ़।
लुधियाना में एआईजी एस एस मंड पर  हमला करने वाले पूर्व अकाली नेता मनिंदर पाल सिंह सहित तीन आरोपियों को गिर फ्तार कर लिया गया है। लेकिन  मंड पर  किए गए हमले को उपमुख्यमंत्री सुखबीर बादल ने व्यक्तिगत लड़ाई बताया। बादल ने कहा कि  लड़ाई के दौरान मंड वर्दी में नहीं थे और न ही उनके पास सरकारी सुरक्षा थी। वह अपने मित्रों के साथ निजी तौर डिनर के लिए गए थे लेकिन फिर भी पुलिस ने कड़ी कार्रवाई की है। उन्होने कहा कि पंजाब में होने वाली हर लड़ाई के लिए अकाली दल को दोषी नहीं ठहराया जा सकता है।
उन्होंने कहा, लड़ाई में बीच बचाव के दौरान उनके सीढिय़ों पर फिसलने से टांग टूटी। हमलवारों का बिक्रम मजीठिया के साथ संबंध पर सुखबीर ने बिक्रम का बचाव करते हुए कहा कि मीडिया इस बात को गलत तरीके से जोड रहा है।
उधर विपक्ष के नेता सुनील जाखड़ ने मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल से राजस्व मंत्री बिक्रम मजीठिया को मंत्रिमंडल से बर्खास्त करने की मांग की। उन्होंने कहा, लुधियाना में यूथ अकाली दल के नेता द्वारा पंजाब पुलिस के उच्च अधिकारी पर जानलेवा हमला कांग्रेस पार्टी की इस बात पर मोहर लगाता है कि यूथ अकाली दल का चीफ बिक्रम सिंह मजीठिया और उसके आदमी केवल गुंडागर्दी कर रहे हैं।
जाखड़ ने कहा कि इस मुददे के खिलाफ अकाली-भाजपा सरकार के खिलाफ जोरदार अभियान छेड़ा  जाएगा।