भाजपा ने पूछा कसाब के बाद अफजल गुरू को कब होगी फांसी

शिमला, 22 नवबंर।

हिमाचल प्रदेश भारतीय जनता पार्टी ने मुम्बई हमले के प्रमुख आतंकवादी अफजल आमिर कसाब की फांसी को देर से उठाया गया सही कदम बताया है। भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता गणेश दत ने कहा कि कसाब के बाद संसद के उपर हमला कर दर्जनों बेगुनाहों को मौत के घाट उतारने वाले एवं भारत के लोकतंत्र पर हमला करने वाले मुख्य आरोपी अफजल गुरू के साथ दया क्यों दिखाई जा रही हैं ? जबकि सर्वोच्च न्यायालय ने अफजल गुरू को फंासी देने का पहले ही निर्णय दे दिया है तथा सभी कानूनी प्रतिक्रियाएं पूरी हो चुकी है। उसके बावजूद भी केन्द्र की कांग्रेस सरकार का आतंकियों के बारे में तुष्टिकरण का यह जीता जागता उदाहरण है क्योंकि सर्वोच्च न्यायालय के 5 वर्ष पूर्व दिए गए निर्णय को अभी तक अमली जामा नहीं पहनाया गया हैं तथा टाल मटोल की प्रक्रिया अपनाई जा रही है जिससे आतंकवादियों और राष्ट्रद्रोहियों के होंसले बुलंद हो रहे है।
पार्टी प्रवक्ता ने पूछा कि आखिर किस शक्ति के दबाव में अफजल गुरू को फांसी नहीं दी जा रही है ? यह सारा देश व प्रदेश, देश की सरकार से पूछना चाहता है।
उन्होंने कहा कि केन्द्र की कांग्रेस सरकार द्वारा कसाब की फांसी को गोपनीय तरीके से रखना आतंकवादियों के साथ उनके व्यवहार के अनुसार सजा देते समय नरमी बरतने जैसा है। दत ने कहा कि जिस आतंकी ने 166 बेगुनाहों को मौत के घाट उतारा तथा सैंकड़ों लोगों के परिवारों को आतंक का दंश दिया है, उसको गुपचुप तरीके के बजाए सार्वजनिक रूप से फांसी देने की आवश्यकता थी जिससे कि भविष्य में कोई भी आतंकी देश की प्रभुता एवं बेगुनाहों पर हमला करने की हिमाकत करने की हिम्मत न रखते।
उन्होंने कहा कि कसाब जैसे क्रूर आतंकी को गुपचुप तरीके के बजाए सार्वजनिक रूप से प्रचार एवं प्रसार के साथ फांसी देने की आवश्यकता थी लेकिन ऑपरेशन एक्स के नाम से फांसी का दिया जाना आतंकवादियों के विरूद्ध दृढ़ इच्छाशक्ति की कमी को दर्शाता हैं।