बीएसएनएल ने बदला सिम वेचने का तरीका, अब सिम खरीदने वाले की होगी टेली वेरिफिकेशन

शिमला, 09 नवबंर।

मोबाइल नंबर के बढ़ते दुरुपयोग व साइबर क्राइम को रोकने के लिए बीएसएनएल अब नए दिशा-निर्देश पर सिम देगा। विभाग ने इसके लिए नए दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं। अब यूजर को सिम लेने खुद जाना होगा। आइडी के सारे प्रूफ फोटो स्टेट कॉपी में नहीं बल्कि बीएसएनएल कर्मचारियों को प्रमाणपत्र की मूल प्रति भी दिखानी होगी। सिम लेने की प्रक्रिया तो पुरानी ही रहेगी, लेकिन आवेदक की जांच पड़ताल में दूरसंचार विभाग सख्ती बरतेगा। सिम खरीदने के नए दिशा निर्देश शुक्रवार से लागू हो गए हैं।
दूरसंचार विभाग के शिमला जिला के महाप्रबंधक प्रेम सिंह का कहना है कि सिर्फ गाइडलाइन्ज में परिवर्तन हुआ है। 1507 पर टेली वेरिफिकेशन के बाद ही उपभोक्ता नए नंबर से फोन कर सकेगा। उपभोक्ताओं को घबराने की आवश्यकता नही है, सिम लेना मुश्किल नहीं होगा।
सिम लेने के बाद उपभोक्ता उस नई सिम से तब तक फोन नहीं कर पाएगा जब तक कि वह 1507 पर कॉल कर अपनी सारी वेरीफिकेशन बीएसएनएल को एक बार फिर नहीं दे देता। टेली वेरीफिकेशन न देने तक सिम से आउटगोइंग बंद रहेगी। इन सारी वेरिफिकेशन के बाद भी भविष्य में यदि उक्त नंबर संबंधी कोई शिकायत पुलिस व बीएसएनएल के पास आती है तो उसका उतरदायी वहीं होगा जिसके नाम से यह नंबर है।
यदि उपभोक्ता का नंबर गुम व चोरी हो जाता है तो उसे विभाग को सूचित करना होगा या फिर पुलिस के पास एफआईआर दर्ज करवानी होगी। उल्लेखनीय है कि मोबाइल द्वारा किए जाने वाले अपराधों पर रोक तथा सिम के दुरुपयोग पर नकेल कसी जा सके इसके लिए अब यूजर किसी अन्य व्यक्ति के माध्यम से सिम नहीं ले पाएगा।