वीरभद्र सीडी मामले में अगली सुनवाई 12 सितंबर को

शिमला, 07 सितम्बर ।

 पूर्व मुख्यमंत्री व कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष वीरभद्र सिंह सीडी मामले में शुक्रवार को अपनी पत्नी पूर्व सांसद प्रतिभा सिंह के साथ विशेष जज वीएल सोनी की अदालत में पेश हुए। उन्होंने अदालत से गुहार लगाई कि मामले का जल्दी निपटारा किया जाए। विशेष जज वीएल सोनी की अदालत ने बीते 25 जून को सीडी मामले में वीरभद्र सिंह और उनकी पत्नी पर आरोप तय किए थे। न्यायालय में सिंह और उनकी पत्नी को आरोप पढ़ कर सुनाए गए।
वीरभद्र ने न्यायालय को बताया कि वे ट्रायल फेस करेंगे और अपराध स्वीकार नहीं करेंगे। शुक्रवार को न्यायालय में वीरभद्र सिंह और उनकी पत्नी ने न्यायालय से स्पीडी ट्रायल की गुहार लगाई जबकि अभियोजन पक्ष के वकील ने न्यायालय में वीरभद्र सिंह और उनकी पत्नी की जमानत रद्द करने की वकालत की। अभियोजन पक्ष के वकील ने दावा किया कि जमानत रद्द करने के लिए काफी तथ्य मौजूद हैं। विशेष जज ने मामले की अगली सुनवाई के लिए 12 सितम्बर को रखी है। अब न्यायालय में वीरभद्र सिंह और उनकी पत्नी की जमानत रद्द करने को लिए 12 सितंबर को सुनवाई होगी।
इससे पहले वीरभद्र सिंह ने 31 अगस्त को सीडी मामले में उच्च न्यायालय में दायर अपनी याचिकाएं वापिस ले लीं थी। सिंह ने उच्च न्यायालय में सीडी मामले में उन पर दर्ज प्राथमिकी को रद्द करने या मामला सीवीआई को सौंपने के लिए याचिका दायर की थी। उच्च न्यायालय ने वीरभद्र सिंह की दायर याचिकाओं को वापिस लेने की अर्जी को स्वीकारते हुए उन्होंने विशेष जज वीएल सोनी की अदालत में ट्रायल का सामना करने को कहा था।
वीरभद्र सिंह को सीडी मामले में आरोप पत्र तय होने के बाद गत 26 जून को केन्द्रीय मंत्रिमंडल से त्याग पत्र देना पडा था। उसके बाद कांग्रेस हाईकमान ने उन्हें 28 अगस्त को हिमाचल प्रदेश कांग्रेस कमेटी का मुखिया बनाया था।

वीरभद्र और उनकी पत्नी के खिलाफ भ्रष्टाचार का यह मामला 3 अगस्त 2009 को दर्ज किया गया था। यह मामला उनके मुख्यमंत्री के समय उनके केविनट मंत्री रहे मेजर विजय सिंह मनकोटिया द्वारा 2007 में जारी की गई एक सीडी के आधार पर दर्ज किया गया था। सीडी में वीरभद्र सिंह और उनकी पत्नी की कुछ अधिकारियों के साथ कथित तौर पर पैसे के लेन देन की आवाज है।

वीरभद्र सिंह सुवह अपनी पत्नी के साथ आज कोर्ट पहुंचे। खचाखच भरे कोर्ट रूम में मामले की सुनवाई करीव 10 मिनट तक चली। बाद में वीरभद्र ने वार रूम में मीडिया के साथ बातचीत करते हुए कहा कि उनके खिलाफ झुठा केसा वनाया गया है और वह इस मामले में पाक-साफ हो कर बाहर निकलेंगे।