वीरभद्र ने भाजपा सरकार पर वितीय कुप्रबंधन का आरोप लगाया

शिमला, 30 सितंबर।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष वीरभद्र सिंह ने कहा है कि  वर्तमान भाजपा सरकार के गत चार वर्षो मे वितिय कुप्रबन्धन के कारण प्रदेश का भावी विकास एक चुनौती होगा। उन्होंने कहा  भाजपा शासन के पहले वर्ष 2008-09 मे राजस्व घाटा 130 करोड़ रूपये का था जो वर्ष 2010-11 में 1235 करोड़ रूपये हो गया है।
आज शिमला से जारी एक बयान में वीरभद्र सिंह ने कहा कि बढते राजस्व घाटे के कारण भाजपा सरकार ने प्रदेश को ऋणों मे डूबो दिया है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2007-08 मे जहां 19,000 करोड़ रूपये के ऋण की देनदारी थी वहीं 2010-11 मे अब यह बढकर 26,415 करोड़ रूपये हो गई है। जबकि चालू वित वर्ष के अंत तक यह देनदारी बढकर 30,000 करोड़ से अधिक होने की उम्मीद है।
उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य सरकार के राजस्व घाटे व वितिय कुप्रबन्धन के कारण शिक्षा, स्वास्थ्य, सामाजिक क्षेत्र मे विकास और अध्यापकों व डाक्टरों के रिक्त पदों को नही भरा जा सका। उन्होंने कहा कि इस वजह से आज प्रदेश में 45,000 से अधिक रिक्त पद पड़े हैं।