राज्य में सस्ता राशन योजना में करोड़ों का घपला : वीरभद्र

शिमला, 25 सितंबर ।  

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष वीरभद्र सिंह ने राज्य में वर्ष 2007 से चल रही सस्ता राशन योजना में भाजपा के साढ़े चार सालों के कार्यकाल के दौरान करोड़ों के घपले की बात कही है। आज शिमला से जारी एक बयान में वीरभद्र ने कहा कि राज्य में वर्तमान सरकार के समय में 1089 करोड़ रूपये का फंड 3.2 लाख फर्जी राशन कार्डों के नाम पर गबन किया गया है तथा इसकी सीबीआई जांच होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि इन फर्जी राशन कार्डों पर सीएजी ने भी टिप्पणी की है।
 
उन्होंने कहा है कि राज्य में सस्ता राशन 16.5 लाख राशन कार्ड धारकों को भाजपा सरकार द्वारा दिया जा रहा है जिसमें 2.32 लाख बीपीएल और 89000 अन्तोदय अन योजना के फर्जी राशन कार्ड है। पीडीएस ऑडिट में खुलासा हुआ है कि 2008 से 2011 के दौरान राज्य सरकार ने 2.32 लाख बीपीएल परिवारों को चिन्हित किया।
वीरभद्र सिंह ने कहा है कि भाजपा सरकार ने 1.07 लाख अन्तोंदय परिवारों के मुकाबले 1.96 लाख परिवारों को इस योजना के तहत लाया जिससें 89,000 फर्जी अन्तोंदय अन योजना कार्ड बनें। सीएजी की टिपणी के बावजूद भी राज्य सरकार ने इन फर्जी राशन कार्डों पर कोई कार्यवाही नही की। 3.2 लाख फर्जी राशन कार्डों से एपीएल राशन कार्ड धारकों को प्रत्येक वर्ष 147 करोड़ का अतरिक्त भार पड़ा।
सिंह ने भाजपा सरकार पर आरोप लगाया कि उन्होंने 2066.47 मैट्रिक टन की घटिया दालें और 1368.26 मैट्रिक टन खाद्यान्न की आपूर्ती की्र जिससे करीब प्रत्येक माह 1 करोड़ से अधिक गबन हुआ और विधानसभा चुनाव नजदीक आते देख भाजपा सरकार ने इस मामले की जांच तो बिठाई है पर आज दिन तक इस जांच मे कोई प्रगति नही हुई है इसलिए इस सारे मामले की जांच सीबीआई से होनी चाहिए।