भाजपा ने दिए बालनाहटा पर कार्यवाही के संकेत

शिमला, 25 सितंबर ।

भाजपा ने पार्टी में बगावती सुर अपनाने वाले विधायक खुशी राम बालनाहटा पर जल्द कार्यवाही करने के संकेत दिए हैं। सतारूढ़ भाजपा सरकार की कार्यप्रणाली से खफा चल रहे बालनाहटा पिछले काफी समय से प्रत्यक्ष तौर पर हमले बोलते आए हैं। प्रदेश भाजपा प्रवक्ता गणेश दत ने कहा कि पार्टी विरोधी गतिवितिधयों के चलते बालनाहटा को प्रदेश भाजपा की तरफ से पूर्व में भी एक नोटिस जारी किया गया है तथा उन पर विधानसभा चुनावों से पूर्व कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने कहा कि बालनाहटा ने भाजपा सरकार पर आज आरोप जो लगाए, वह पूर्णतय: निराधार हैं और प्रदेश अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती को इस संबंध में अवगत करा दिया गया है तथा पार्टी विधायक पर शीघ्र आवश्यक कार्यवाही करेगी।
दत ने आज शिमला में पत्रकार वार्ता में कहा कि जिस पार्टी की छत्रछाया में बालनाहटा फले-फूले, उसे आज भ्रष्ट सरकार से आरोपित करना दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने कहा कि विधायक के बयानों से उनकी नियत में खोट प्रतीत होता है।
भाजपा प्रवक्ता ने सवाल किया कि डेढ़ वर्ष पूर्व रोहडू़ उपचुनावों के दौरान मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल को विकास का मसीहा तथा उनकी तुलना हिमाचल निर्माता डा. यशवंत सिंह परमार से करने वाले बालनाहटा का एकाएक ह्रदय परिवर्तन कैसे हो गया। उन्होंने भाजपा विधायक के आरोपों को निराधार करार देते हुए कहा कि वर्तमान सरकार के कार्यकाल के दौरान विधायक के हल्के में 500 करोड़ रूपये के विकास कार्य हुए हैं। यहां स्कूल, पुल, सडक़ बनीं, पीएसई खुली और सिंचाई की स्कीमें चलाई गईं। इतने बड्े स्तर पर योजनाओं के बावजूद बालनाहटा अपनी बिगड़ी मानसिकता का परिचय दे रहे हैं।

 निजी विश्वविद्यालयों पर बालनाहटा के आरोपों का जबाव देते हुए दत ने कहा कि यूजीसी के मापदंडों के तहत विवि चल रहे हैं और राज्य सरकार ने इनकी निगरानी के लिए विश्वविद्यालय नियंत्रण आयोग का भी गठन किया है। बावजूद इसके विरोधियों द्वारा निजी विवि पर हायतौबा मचाया जा रहा है। जेपी मसले पर बालनाहटा के बयान का खंडन करते हुए भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि जेपी कंपनी को नियमों के तहत विस्तार करने की इजाजत मिली है।