ढांक से गिरकर हुई थी स्कूली छात्राओं की मौत

शिमला, 25 सितंबर।

संजौली नबवहान क्षेत्र में एक निजी स्कूल में छटी कक्षा में पढऩे वाली दो छात्राओं की मौत गाड़ी की टक्कर से नहीं बल्कि ढंाक से गिरने से हुई थी। छात्राओं के शव की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में आज इसका खुलासा हो गया है। सोमवार देर रात ही दोनों छात्राओं के शवों का पोस्टमार्टम करवाया गया था।
गौरतलब है कि छठी कक्षा की दो छात्राओं साक्षी और नैंसी की सोमवार को रहस्यमय हालत में मौत हो गई थी। दोनों छात्राओं को संजौली-नबवहार सडक़ किनारे जख्मी हालत में पाया गया तथा लोगों ने उन्हें आईजीएमसी अस्पताल पहुंचाया। लेकिन इस दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया। सडक़ किनारे अचेत अवस्ता में मिलने पर गाड़ी की टक्कर मुख्य वजह बताई जा रही थी। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार एक छात्रा के सिर पर गहरी चोट लगी है जिससे इसकी मौत हो गई। इतनी जोरदार चोट किसी गाड़ी की टक्कर से लगना संभव नहीं है। यह चोट ढांक से सडक़ पर गिरने के दौरान लगी। साथ ही इस छात्रा की एक बाजू भी फ्रैक्चर पाई गई।
पुलिस के अनुसार यदि छात्राओं को किसी गाड़ी ने टक्कर मारी होती तो वह जोरदार टक्कर से सडक़ से नीचे जा सकती थी। लेकिन यह ढांक से सीधे बीच सडक़ में जा गिरी। इसके अलावा छात्राओं के कपड़ों में कुछ हरी घास और झाडिय़ां लगी होने से भी पुलिस वाहन टक्कर के कारण को नकार रही है। हालांकि पुलिस के सामने अभी भी कई अनसुलझे पहलू हैं। दोनों छात्राएं ढांक पर क्यों गईं और तनाव व अन्य कारणों के चलते उन्होंने कोई नशीली चीजों को सेवन तो नहीं किया।
पुलिस ने दोनों छात्राओं के शवों के ब्लड सैंपल और बिसरा लेकर जांच के लिए जुनगा स्थित फौरेसिंग लैब में भेज दिए हैं। जांच रिपोर्ट आने के बाद खून में किसी नशीले पदार्थ के मिलने की बात भी स्पष्ट हो जाएगी। साथ ही कुछ और साक्ष्य भी पुलिस को मिल सकते हैं। फिलहाल पुलिस दोनों छात्राओं के शरीर में किसी भी नशे के होने की बात से इंकार कर रही है।