कांग्रेस लकवाग्रस्त और डूबता जहाज : रविशंकर

 

शिमला, 21 सितंबर ।

भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता व राज्यसभा में उपनेता प्रतिपक्ष रवि शंकर प्रसाद ने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए उसे लकवाग्र्रस्त और डूबता जहाज करार दिया है। उन्होंने कहा है कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह विदेशी कंपनियों के दबाव में काम कर रहे हैं। कल के अभूतपूर्व बंद के बावजूद केंद्र द्वारा विदेशी निवेश को अधिसूचित करना अहंकार का परिचायक है। कांग्रेस को विपक्ष व लोकमत की चिंता की बजाए विदेशी कंपनियों का फिक्र है। आज शिमला में संवाददाताओं से बातचीत में भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि 17 नवंबर 2011 में तत्कालीन वित मंत्री प्रणव मुखर्जी ने विदेशी निवेश के मसले पर राज्यों के मुख्यमंत्रियों, राजनीतिक दलों और स्टेकहोल्डरों को विश्वास में लेने का आवश्वासन सदन में दिया था। मगर आज केंद्र किसके दबाव में विदेशी निवेश लाई है। साफ है कि प्रधानमंत्री विदेशी कंपनियों के दबाव में कार्य कर रहे हैं।
उन्होंने कहा कि कांग्रेस स्वयं की कारगुजारी से अपनी साख, नैतिकता और विश्वसनीयता खो चुकी है। तृणमूल कांग्रेस ने कांग्रेस का साथ छोड़ दिया है, अन्य सहयोगी दलों की दृष्टि में मनमोहन सिंह, सोनिया और राहुल योग्य नेता नहीं है। खुद मुलायम सिंह सडक़ों पर उतरकर विरोध कर रहे हैं। ऐसे में कांग्रेस की विश्वनीयलता कहां रह जाती है। भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि केंद्र में काबिज कांग्रेसनीत यूपीस सरकार की उल्टी गिरती शुरू हो गई तथा यह कभी भी गिर सकती है और इसे बचाने के लिए जोड़तोडृ की कोशिश की जा रही है। दिल्ली हवाई अड्डे पर कैग की एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए भाजपा नेता ने कहा कि यहां 190 एकड़ भूमि को 6 करोड़ रूपये में दिया गया, जिसकी कीमत 100 करोड़ प्रति एकड़ है। उन्होंने कहा कि देश में तीसरे मोर्चे का भविष्य नहीं है। भारत में बड़े राष्ट्रीय दल ही स्थायित्व प्रदान कर सकते हैं। 
हिमाचल में धूमल सरकार के कामकाजों की सराहना करते हुए रविशंकर ने कहा कि धूमल के नेतृत्व में हिमाचल को राष्ट्रीय व अंतराष्ट्रीय स्तरों पर कई पुरस्कारों से नवाजा गया है। केेंद्र के दोहरे मापदंड के बावजूद राज्य में स्वास्थ्य, कृषि, रोजगार जैसे कई विभागों में अभूतपूर्व विकास हुआ है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश, छतीसगढ़ और पंजाब की तर्ज पर लोग विकास के नाम पर वोट देकर भाजपा को यहां दोबारा काबिज करेंगे।