कांग्रेस कार्यकारिणी की बैठक से कौल सिंह और जीएस बाली रहे नदारद

शिमला, 11 सितंबर ।

हिमाचल प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष वीरभद्र सिंह ने आगामी विधानसभा चुनावों के लिए सभी कांग्रेसियों को एकजुट रहने को कहा है। आज प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में प्रदेश कांग्रेस कार्यकारिणी की पहली बैठक की अध्यक्षता करते हुए उन्होंने स्पष्ट किया है कि आगामी चुनावों में जीत की क्षमता रखने वाले उम्मीदवार को ही टिकट दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में पार्टी के भीतर कोई भी बदलाव नहीं किया जाएगा। आज हुई बैठक में गुटवाजी साफ देखने को मिली। इस बैठक से वीरभद्र सिंह का विरोधी खेमा नदारद रहा। इस बैठक में पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कौल सिंह ठाकुर सहित आशा कुमारी, विप्लव ठाकुर व विधायक जीएस बाली, पार्टी महासचिव कुलदीप सिंह राठौर और कांगड़ा जिला कांग्रेस अध्यक्ष सहित कुछ अन्य नेताओं ने बैठक में भाग नहीं लिया।

उन्होंने कहा कि इसके विपरीत वह नहीं चाहते कि पार्टी के भीतर कोई समानान्तर बैठके करें या फिर भीतर घात करने की कोशिश करे। ऐसे नेताओं को बर्दाशत नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि वह सब को साथ लेकर चलेंगे और अनुशासनहीनता को बर्दाशत नहीं करेंगे।
वीरभद्र सिंह ने कहा कि उन्हें पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्षा सोनिया गांधी ने एक महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी है। उनका संकल्प प्रदेश में कांग्रेस पार्टी को सत्ता में लाने का है। उन्होंने कहा है कि जल्द ही पार्टी के अग्रणी संगठनों के साथ भी ऐसी ही बैठक की जाएगी, जिससे इन संगठनों के विचारों से भी अवगत हो सके। कार्यकारिणी की इस बैठक में कांग्रेस के विधायकों, पूर्व विधायकों सहित 12 जिला अध्यक्षों व 67 बलॉक अध्यक्षों ने भाग लिया। इसके अतिरिक्त कार्यकारिणी के 225 सदस्य बैठक में उपस्थित थे। लगभग चार घंटों से अधिक चली इस बैठक में वक्ताओं ने एक जुटता दिखते हुए वीरभद्र सिंह के प्रति विश्ववास जताते हुए उन्हें अध्यक्ष बनने की बधाई भी दी।
इस बैठक में हिमाचल प्रदेश कांग्रेस कमेटी वीरभद्र सिंह के प्रदेश कांग्रेस के राज्य अध्यक्ष बनने पर बधाई दी गई । वीरभद्र सिंह के कुशल नेतृत्व में पार्टी प्रदेश में कांग्रेस सरकार स्थापित कर भाजपा के कुशासन, भ्रष्टाचार व पुलिस राज व राजनीतिक आतंक से हिमाचल को मुक्त करवाएगी तथा प्रदेश में कल्याणकारी राज स्थापित करेगी। वीरभद्र सिंह के कांग्रेस की कमान संभालने के बाद भाजपा को जबरदस्त सदमा लगा है और उसके मिशन रपीट की हवा सरक गई है। प्रदेश में इस साल के अंत तक भाजपा सरकार को उखाड़ कर जनता का राज बहाल किया जाएगा।