वीरभद्र सिंह को कमान देने से कांग्रेस नहीं होगा कोई लाभ : भाजपा

शिमला।

भाजपा ने वीरभद्र सिंह को कांग्रेस पार्टी के प्रचार की कमान दिये जाने को स्थापित राजनैतिक व नैतिक मूल्यों का मजाक बताया हैं। शिमला से जारी एक बयान में भाजपा प्रवक्ता डा0 अशोक कपाहटिया ने कहा कि यह विडम्बना हैं कि कांग्रेस पार्टी ने हिमाचल में चुनाव प्रचार की कमान एक ऐसे नेता को दी हैं जो स्वयं कोर्ट के द्वारा हाल ही में चार्जशीट किया गया हैं। कांग्रेस पार्टी अब किस मुंह से प्रदेश में तथाकथित भ्रष्टाचार के विरूद्ध आवाज उठाने की बात करेगी।

भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि वीरभद्र सिंह दुष्प्रचार और राजनैतिक ड्रामेबाजी के पुराने खिलाड़ी हैं। अब कोर्ट द्वारा चार्जशीट होने के बाद शहीदी जामा पहनकर हिमाचल दौरा करने से वीरभद्र सिंह अथवा कांग्रेस पार्टी को कोई लाभ नहीं होने वाला।

वहीं, दूसरी ओर बीते कल मण्डी में कांग्रेस की ’’परिवर्तन रैली’’ को भाजपा ने प्लाफ करार दिया है और कहा है कि इन रैलियों में आम जनता की भागीदारी न के बराबर हैं। भाजपा के महामंत्री राम स्वरूप शर्मा ने रविवार को शिमला से जारी एक बयान में कहा है कि हर परिवर्तन रैली में कांग्रेस पार्टी के नेतृत्व की लड़ाई और मुख्यमंत्री बनने की लालसा ही स्पष्ट दिखाई देती हैं।

रामस्वरूप शर्मा ने बताया कि इन सभी रैलियों में कांग्रेस पार्टी केवल अनर्गल आरोप प्रत्यारोप लगाने की राजनीति करती रही हैं। अब तक प्रदेश की जनता के समक्ष इस चुनावी वर्ष में कोई भी नई योजना अथवानीति प्रस्तावित कर पाने में कांग्रेस नेतृत्व पूरी तरह असफल रहा हैं। यही कारण है कि इन रैलियों से आम जनता का कोई सरोकार नहीं रहा और न ही कोई भागीदारी रही।
 
भाजपा महामंत्री ने कहा कि वे कांग्रेस प्रभारी वीरेन्द्र सिंह के उस बयान से सहमत हैं कि मात्र 200 लोगों के कहने से कोई मुख्यमंत्री नहीं बन जाता। कांग्रेस के जन समर्थन का यही हाल हैं। उन्होंने कहा कि यह बात मुख्यमंत्री पद के दावेदार सभी कांग्रेसी नेताओं को समझ लेनी चाहिए। सरकार बनाने के लिए व्यापक जन समर्थन की आवश्यकता होती है जो अभी तक कहीं कांग्रेस के पक्ष में नजर नहीं आता।