एससी एसटी एक्ट के तहत 13 को मिली सजा

शिमला, 04 जुलाई ।

जिला में एससी एसटी एक्ट के अन्तर्गत पहली बार एक सप्ताह के भीतर चार महिलाओं सहित 13 लोगों को कारावास की सजा सुनाई गई है। यह जानकारी उपायुक्त शिमला डा. अरूण शर्मा ने आज यहां आयोजित जिला स्तरीय सतर्कता एवं प्रबोधन समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए दी।

उन्होंने कहा कि जिला में अनुसूचित जाति/जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम के प्रावधानों का सख्ती से पालन किया जा रहा है। जिला में छुआछूत को लेकर किसी प्रकार के भेदभाव की समस्या नहीं है, फिर भी यदि कहीं से छुट-पुट शिकायतें आती हैं तो इनका अधिनियम के अन्तर्गत निपटारा किया जा रहा है।

उपायुक्त ने जिला कल्याण अधिकारी को निर्देश दिए कि अधिनियम की जानकारी आम लोगों तक पहुंचाने के लिये पंचायती स्तर पर जागरूकता शिविरों का आयोजन किया जाए। उन्होंने जल्द से सभी पंचायतों तथा स्कूलों में अधिनियम के साईन बोर्ड स्थापित करने के निर्देश भी दिये। उन्होंने कहा कि अत्याचार से सम्बद्व मामले की एफआईआर संवेदनशीलता के साथ दर्ज की जाए तथा पीडि़त व्यक्ति की पुलिस द्वारा हर सम्भव सहायता की जाये।

इस अवसर पर जिला कल्याण अधिकारी शशी बिजलवान ने बताया कि जिला में अत्याचार से पीडि़त पांच व्यक्तियों को 50 हजार रूपये की राशि उपलब्ध करवाई जा रही है।  बैठक में पुलिस अधीक्षक चन्द्रशेखर पंडित, अतिरिक्त उपायुक्त बलबीर सिंह बड़ालिया, सहायक आयुक्त एम.एस. ठाकुर, जिला न्यायवादी अश्वनी धीमान मौजूद थे।