हिमाचल में मंगलवार को थम जांएगें परिवहन निगम के पहिए

शिमला, 04 जून ।

एचआरटीसी को रोड़वेज बनाने की मांग पर अड़े कर्मचारी मंगलवार को 24 घंटे की हड़ताल पर रहेंगे। सरकार की तरफ से हड़ताल रोकने के लिए अतिरिक्त मुख्य सचिव परिवहन टीजी नेगी की अध्यक्षता में बैठक आयोजित की गई। बैठक में श्रम कल्याण बोर्ड के  पूर्व चेयरमैन अशोक पूरोहित, निदेशक परिवहन व परिवहन मजदूर संघ के संस्थापक आसाराम भी शामिल हुए।

समिति के सदस्य इस बैठक में भाग लेने तो पहुंचे मगर आश्वासन का लॉलीपाप मिलने के बाद उन्होंने वाकआउट कर दिया। कर्मचारी इसी मांग पर अड़े रहे कि एचआरटीसी को रोड़वेज बनाया जाए। सुलह के लिए बुलाई गई वार्ता 10 मीनट में ही खत्म हो गई।
      
हड़ताल के कारण निगम की 2200 बसें खड़ी रहेगी, 2500 रूट जिन में अंर्तराज्यीय व राज्य के शामिल हैं प्रभावित रहेंगे। वाल्वों, डिलक्स बसों का स्टाफ भी हड़ताल में शामिल होगा। दो दिनों की छुट्टïीयां होने के चलते हड़ताल का व्यापक असर प्रदेश भर में देखने को मिलेगा। हड़ताल मंगलवार सुबह 4 बजे से शुरू होकर बुधवार सुबह 4 बजे तक जारी रहेगी।

हड़ताल में हरियाणा रोड़वेज, सीटीयू (चंडीगढ़ ट्रांसपोर्ट अंडरटेकिंग) सहित पंजाब परिवहन निगम के कर्मचारी भी इस आंदोलन में भाग लेंगे। हरियाणा रोड़वेज के कर्मचारी दो घंटे तक बसें नहीं चलाएंगे।
समिति ने आरोप लगाया कि सरकार ने जानबूझ कर यह बैठक तीन जून को आयोजित करवाई। सोमवार को जो आपात बैठक बुलाई गई थी उस में भी उन की मांगों को पूरा करने के बजाए आश्वासन दिए जा रहे थे जिन से कर्मचारी पहले ही तंग आ चूके हैं।

संयुक्त संर्घष समिति के तले होने वाली हड़ताल में कर्मचारियों ने आह्वïान किया है कि निगम में साहबों की गाडिय़ों को चलाने वाले स्टाफ को भी हड़ताल में शामिल किया जाएगा। ताकि उन्हें पता चल
सके कि हड़ताल का कितना असर होता है।