वीरभद्र सिंह को चुनाव प्रचार समिति की कमान

शिमला।

 पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह को आने वाले विधानसभा चुनावों के लिए कांग्रेस हाईकमान ने चुनाव प्रचार समिति का अध्यक्ष वनाया गया है। वीरभद्र सिंह के चुनाव प्रचार समिति के अध्यक्ष वनते ही प्रदेश में कांग्रेस के अंदर नए समीकरण वनना शुरू हो गए हैं। वीरभद्र की दो दिन पहले ही सीडी मामले में आरोप पत्र तय होने के बाद बतौर केन्द्रीय लघु एंव उद्योग मंत्री छुटटी हुई है। इससे उन्हें आने वाले विधानसभा चुनावों के मद्देनजर कोई महत्वपूर्ण पद सौंपने का हाईकमान पर उनके समर्थक दबाव वना रहे थे।

वीरभद्र सिंह की नियुक्ति कांग्रेस के अंदर खासकर कौल सिंह गुट के लिए किसी झटके से कम नहीं है। वहीं विपक्षी भाजपा को भी अब वीरभद्र सिंह को घेरने के लिए कडी मेहनत करने की आवश्यकता होगी।

बीती शाम को दिल्ली में हाईकमान ने वीरभद्र सिंह को चुनाव प्रचार समिति की कमान सौंपने का फैसला किया है। जबकि इसके सदस्यों की घोषणा भी जल्द ही कर दी जाएगी। केन्द्रीय मंत्री पद से त्याग पत्र देने के बाद वीरभद्र के सियासी भविष्य के बारे में भी कयास लगाए जा रहे थे। लेकिन हाईकमान ने उन्हें चुनाव प्रचार समिति का अध्यक्ष वनाकर सब को चौंका दिया है। इस घोषणा से वीरभद्र सर्मथकों में जोर का उत्साह है जो कि वीरभद्र सिंह के मंत्री पद से त्याग पत्र देने के बाद दिल्ली डेरा डाले हुए थे।

गौरतलब है कि वीरभद्र सिंह प्रदेश कांग्रेस में केवल एकमात्र जनाधार वाले नेता है। सभवत: पार्टी इस निर्णय से हिमाचल में आने वाले विधानसभा चुनावों में उनकी लोकप्रियता को भुनाएगी।