तीन दिवसीय जैविक मेला सम्पन्न

शिमला। हिमाचल प्रदेश कृषि विभाग द्वारा तीन दिवसीय जैविक मेला एवं फूड फैस्टिवल शनिवार को सम्पन्न हो गया।अतिरिक्त मुख्य सचिव टी.जी. नेगी ने समापन समारोह की अध्यक्षता की तथा मेला में विभिन्न जैविक खेती करने वाली संस्थाओं द्वारा स्थापित प्रदर्शनियों केे प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र वितरित कियें।

नेगी ने किसानो को अपने जैविक उत्पादो की गुणवत्ता को कायम रखने का आह्वान किया। उन्होने किसानो को जैविक उत्पादों केे उत्पादन में वृद्धि करके अपनी आर्थिकी सुदृढ़ करने की स्थिति में गुणवत्ता पर विशेष ध्यान देने को कहा ताकि जैविक उत्पादों की गुणवत्ता भी कायम रहे सकें। उन्होने प्रदेश में जैविक खेती को अपनाने केे लिए किसानो एवं बागवानों को प्रेरित करने केे लिए ग्रामीण स्तर पर जागरूकता मेलों का आयोजन करने की जरूरत पर भी बल दिया ताकि किसान जैविक खेती केे लाभ और रसायनिक खाद एवं कीटनाशको केे प्रयोग से उत्पादन एवं उपभोक्ताओं केे स्वास्थ्य पर पडऩे वाले कुप्रभावों की जानकारी मिल सके।

इस मौके पर आईकोवा केे कार्यकारी निदेशक मनोज मैनन ने बताया कि मेला केे दौरान विभिन्न संस्थाओं द्वारा स्थापित प्रदर्शनियों केे माध्यम से किसानो द्वारा 1.45 लाख रूपये केे जैविक उत्पादों की बिक्री की गई है। उन्होने बताया कि उनकी संस्था देश में जैविक खेती को प्रोत्साहित करने केे लिए सहयोग एवं तकनीकी ज्ञान प्रदान करती है ।

कृषि निदेशक, डा. जे.सी. राणा ने प्रदेश में जैविक खेती को प्रोत्साहित करने केे लिए आयोजित विभिन्न कार्यक्रमों की जानकारी देते हुए बताया कि इस मेला केे दौरान 23 जैविक किसान समूहो तथा संस्थाओं द्वारा उत्पादो की प्रदर्शनियॉ लगाई गई थी । उन्होने बताया कि मेला में प्रदेश केे विभिन्न क्षेत्रों केे किसानो केे अलावा पंजाब, हरियाणा, उत्तरांचल, उत्तर प्रदेश और राजस्थान आदि राज्यों केे किसानो ने भाग लिया और जैविक खेती अपनाने का ज्ञान हासिल किया । उन्होने बताया कि मेला में हिमाचल प्रदेश पर्यटन निगम केे माध्यम से हिमाचली व्यंजन भी यहां आने वाले पर्यटको एवं किसानो को प्रोसे गये थे ।