हिमाचल की सेब को विशेष उत्पाद का दर्जा देने की मांग

शिमला, 09 मई।

हिमाचल सरकार ने केन्द्र सरकार से सेब को विशेष उत्पाद का दर्जा देने का आग्रह किया है। देश की मंडियों में आयातित सेब की भरमार से प्रदेश के सेब उत्पादकों को सुरक्षित करने के लिए बागवानी मंत्री नरेन्द्र बरागटा ने कल नयी दिल्ली में वाणिज्य मंत्रालय के उच्चाधिकारियों के साथ विस्तृत विचार-विमर्श के दौरान यह आग्रह किया।

बैठक में स्थानीय फसलों की विभिन्न किस्मों के संरक्षण एवं इसे अंतरराष्ट्रीय बाजार में निर्यात के विभिन्न अवसरों की संभावनाओं का पता लगाने के लिए विस्तृत चर्चा की गयी।

इस अवसर पर बरागटा ने कहा कि राज्य में 2500 करोड़ रुपये की आर्थिकी प्रतिवर्ष अकेले सेब पर निर्भर करती है और यह राज्य का मुख्य फल उत्पाद है, जिसे देश भर की विभिन्न मंडियों में ‘ब्राण्ड हिमाचल’ के नाम से बेचा जाता है। उन्होंने विदेशी सेब पर सीमा शुल्क को 50 प्रतिशत से बढ़ाकर 80 प्रतिशत करने का मामला भी उठाया। उन्होंने कहा कि एनडीए सरकार के कार्यकाल में सीमा शुल्क को 30 प्रतिशत से बढ़ाकर 50 प्रतिशत किया गया था, जिससे सेब उत्पादकों को व्यापक राहत मिली।