राजन सुशांत कांग्रेस के एजेंट : भाजपा

शिमला, 08 मई ।

भाजपा से निष्कासित कांगड़ा लोकसभा क्षेत्र के सांसद राजन सुशांत द्वारा प्रदेश सरकार के खिलाफ लगातार लगाए जा रहे आरोपों का जवाब देते हुए भाजपा ने उन्हें कांग्रेस का एजेंट करार दिया है।

प्रदेश भाजपा उपाध्यक्ष व पूर्व राज्यसभा सांसद कृपाल परमार ने मंगलवार को शिमला में पत्रकारों से बातचीत में बताया कि सुशांत इससे पहले तीन बार पार्टी से बाहर जा चुके हैं और हमेश पार्टी विरोधी गतिविधियों में संलिप्त रहे हैं। जेपी मामले पर हाईकोर्ट के निर्णय पर सुशांत के बयान पर परमार ने टिप्पणी करते हुए कहा कि इस मामले में सारी गलतियां कांग्रेस के कार्यकाल के दौरान हुईं मगर सुशांत ने कांग्रेस पर कोई भी आरोप नहीं लगाया।

परमार ने कहा कि सुशांत ने इस मुद्दे पर मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल का इस्तीफा मांगा है जबकि पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह पर बोलने से उन्होंने परहेेज किया। सुशांत बताएं कि जब-जब वे विधायक या मंत्री होते हैं तब-तब ही उनकी संपति में बढोतरी क्यूं होती है।

परमार ने मांग की है कि सुशांत द्वारा पिछले बीस सालों में अर्जित संपति की सीबीआई जांच हो। सुशांत ने हमेशा पार्टी के विरूद्व काम किया है और पिछली भाजपा सरकार को भी गिराने का प्रयास किया था। उन्होंने 1987 में शांता कुमार पर भी पार्टी फंड के गमन का आरोप लगाया था। परमार ने कहा कि वे राष्ट्रीय अध्यक्ष नितिन गढक़री से सुशांत को पार्टी से पूरी तरह बाहर करने के लिए बात करेंग। इस मसले पर मुख्यमंत्री व प्रदेश अध्यक्ष से बात की जा चुकी है।

परमार जो कि एचपीसीए के उपाध्यक्ष भी हैं ने कहा कि एचपीसीए में जेपी का कोई पैसा नहीं लगा है। वर्ष 2000 से पहले एचपीसीए का 20 लाख बजट था, जबकि आज एचपीसीए 25 करोड़ सालाना खर्च कर रहा है।