पांगी का संपर्क लाहौल घाटी से टूटा, सैंकड़ो वाहन फंसे

चंबा,14 मई।

हिमाचल प्रदेश में चम्बा जिले के किलाड़ से करीब दो किलोमीटर दूर ग्रेफ द्वारा बनाया गया, 100 फुट लंबा पुल भारी भू:स्खलन के कारण टूट गया है जिससे पांगी से लाहौल घाटी का सम्पर्क सडक़ मार्ग से अवरुद्ध हो गया है तथा पुल के दोनों ओर सैंकड़ों की संख्या में यात्री और वाहन फंस गये है।
          
पांगी व लाहौल घाटी को आने जाने वाला एक मात्र पुल पर आज सुबह आठ बजे अचानक भारी भू स्खलन के कारण टूट गया। लोक निर्माण विभाग के अधिशासी अभियंता मदन कुमार मिन्हास ने इस बात की पुष्टि करते हुए बताया कि इतने बड़े भू स्खलन की कल्पना भी नहीं की जा सकती थी।  
        
उन्होंने आगे कहा कि  भूस्खलन से ठीक पहले पुल के ऊपर से कुछ यात्री वाहन गुजरे हैं। अगर दो मिनट का फर्क पड़ जाता तो और भी बड़ा हादसा हो सकता था। उन्होंने कहा कि भू:स्खलन की सूचना ग्रेफ व जिला प्रशासन तथा प्रदेश सरकार को दे दी है । अब ग्रैफ के इंजनियर आकर ही इस काम को कर सकेंगें।
      
पांगी की ग्राम पंचायतों मिंधल, साच, सेचु, पुर्थी, रेई, आदि का भी संपर्क किलाड़ से कट गया है। वहीं पर गर्मीयां आरंभ होते ही जो लोग कुल्लू से होकर बाया रोहतांग पास व उदयपुर हो कर पांगी घाटी के मुख्यालय किलाड़ तक आ रहे थे। उनका संपर्क भी अब टुट गया है।       

चम्बा मुख्यालय में पत्रकारों से अनोपचारिक बातचीत के दौरान विधानसभा अध्यक्ष पंडित तुलसीराम शर्मा ने बताया कि भू:स्खलन की जानकारी मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल को देकर ताजा हालात से अवगत करा दिया है। उन्होंने आश्वासन दिया कि जल्दी ही प्रशासन आवाजाही को बहाल कर देगी। उन्होंने कहा कि यह प्राकृतिक आपदा है, जिससे निपटने के लिए कारगर कदम उठाए जायेगे और आज शाम तक पैदल मार्ग को खोल दिया जायेगा।