नगर निगम में महापौर को दिलाएंगे शक्तियां : माकपा

शिमला, 14 मई।

माकपा ने कहा कि नगर निगम शिमला को लोक हित और महापौर-केन्द्रित बनाया जायेगा, ताकि प्रशासनिक शक्तियां जनप्रतिनिधियों के हाथों में रहे।
उक्त जानकारी आज यहां पार्टी का ‘‘चुनाव घोषणा पत्र’’ जारी करते हुए कमेटी के अध्यक्ष कुलदीप सिंह तनवर ने पत्रकारों को दी। उन्होंने कहा कि इसके लिए एसएमसी अधिनियम में संशोधन की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि चुनी हुई संस्था जनता की भलाई व विकास के लिए प्रतिबद्ध हो न कि किसी व्यक्ति विशेष के लिए। उन्होंने कहा कि नगर निगम वर्तमान में कमीशनर-केंद्रित है इसे महापौर-केन्द्रित करना आवश्यक है। इसके लिए माकपा सता में आने पर लड़ाई लड़ेगी।

उन्होंने कहा कि शहर के विकास व मूलभूत ढांचे तथा जनता को सुविधाएं प्रदान करने के लिए दृष्टिकोण चाहिए। मूलभूत सुविधाओं को लेकर भविष्य में शहरी विकास योजना का गठन किया जायेगा और हर वार्ड में तीन महीने में एक बार पंचायत का आयोजन किया जायेगा, जिसमें लोगों की समस्याओं को सुना जायेगा। पीने के पानी, यातायात व्यवस्था, पार्किंग सुविधा, मजदूरों को रिहायशी सुविधाएं, रेहड़ी फड़ी वालों के धंधों के लिए उचित व्यवस्था, सीवरेज नेटवर्क का उचित प्रबंध, वर्षा के पानी की निकासी, सभी वार्डों में सामुदायिक केन्द्र खोलने जैसी सुविधाओं को बेहतर बनाया जायेगा।

इसके अलावा हाउसिंग योजना बनाई जायेगी जिसमें सभी को मकान की सुविधा होगी। योजना के आधार पर मर्जर एरिया का विकास होगा और राजीव घर योजना के तहत स्लम क्षेत्र को चिन्हित किया जायेगा। छोटे दुकानदारों को एफडीआई से बचाने के लिए पार्टी इसके विरुद्ध अपनी आवाज बुलंद करती रहेगी।

डॉ. तनवर ने कहा कि आर्थिकी को सुदृढ़ किया जायेगा और नये कर लगाना तथा करों में इजाफा करना गैर जरूरी व जनता विरोधी निर्णय है। उन्होंने कहा कि आय का साधान नये करों को थोपने नहीं बल्कि कर एकत्रित करने के निपुणता तथा बाहरी स्रोतों से अनुदान लेकर होगा।

पार्टी ने लोकहित और शिमला को सुन्दर बनाने के लिए हर संभव कोशिश करेगी और इसके प्रति निर्णय लेगी। उन्होंने कहा कि अगर माकपा सत्ता में आती है तो घोषणा पत्र में किए गये सभी वादों को पूरा किया जायेगा और अगर विपक्ष की भूमिका भी निभानी होगी तो भी लिए गयेे निर्णय को लागू करवाने के लिए संघर्ष किया जायेगा।