जेपी मामले पर तल्ख हुए कांग्रेस के तेवर, 22 मई को मनाया जाएगा रोष दिवस

 

शिमला,14 मई (हि.स.)। प्रदेश कांग्रेस जेपी मामले पर राज्य सरकार के खिलाफ 22 मई को प्रदेश में रोष दिवस मनाएगी। इसके तहत राज्य में जिला व ब्लॉक स्तर पर प्रदर्शनों का आयोजन किया जाएगा। इसके अलावा पार्टी ने एक बार फिर से इस पूरे मामले की 2008 के बाद की अवधि की सीबीआई जांच की मांग दोहराई है। आज शिमला में पत्रकार वार्ता में प्रदेश कांग्रेस महासचिव कुलदीप सिंह राठौर ने जेपी मामले में मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल के ब्यान का खंडन करते हुए इसे लोगों को गुमराह करने वाला तथा इस मामले को रफा-दफा करने का प्रयास करने वाला कहा है।
कुलदीप सिंह राठौर ने कहा कि पूर्व की कांग्रेस सरकार ने वर्ष 2007 में नीतिगत निर्णय लिया था कि प्रदेश में थर्मल पावर प्लांट नहीं लगेगा। क्योंकि इससे पर्यावरण को नुकसान पहुंचता है। उन्होंने आरोप लगाया कि वर्तमान भाजपा सरकार ने सत्ता में आते ही पूर्व सरकार के इस निर्णय को बदला । उन्होंने कहा कि सरकार ने जेपी द्वारा गैर कानूनी रूप से कब्जाई जमीन को भी नियमित किया।

राठौर ने सरकार पर आरोप लगाया कि चाहे वह कड़छम वांगतू हो या  विवेकानंद ट्रस्ट हो सभी मामलों में सरकार ने जेपी को लाभ देने का प्रयास किया है और मुख्यमंत्री के एक खास अधिकारी के आवास में जेपी का क्षेत्रीय कार्यालय भी चल रहा है। जेपी ने भाजपा सरकार के शासनकाल में गलत तरीके से लाभ कमाया है। इसलिए इस सारे प्रकरण की सीबीआई से जांच की जानी चाहिए।