जेपी इंडस्ट्रीज मामले में गुमराह कर रहे कौल सिंह : भाजपा

शिमला, 12 मई । प्रदेश भाजपा ने कांग्रेस अध्यक्ष कौल सिंह ठाकुर द्वारा जेपी एसोसिएशन लिमिटड के बारे दिये जा रहे बयान को गुमराह करने वाला बताया है। शिमला से शनिवार को जारी एक बयान में प्रदेश भाजपा प्रवक्ता गणेश दत ने कहा है कि कांग्रेस कार्यकाल में 2004 से 2007 के बीच तत्कालीन सरकार द्वारा हिमाचल को बेचने का सिलसिला शुरू किया गया था।

उन्होंने कहा कि वर्ष 2004 में तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने जुलाई 2004 में एमओयू दस्तखत हस्ताक्षरित किया तथा 16 सितम्बर 2004 में सिंगल विन्डो से स्वीकृति प्रदान कर दी गयी थी। यही नहीं 325 बीघा व 16 बिसवा भूमि बिना विभागीय कारवाई के जेपी ऐसोसिएशन लिमिटड को प्रोजेक्ट लगाने के लिये दे दी गयी थी तथा जे पी ने 2 नवम्बर 2004 में प्लॉन्ट का कार्य भी शुरू कर दिया था।

भाजपा ने कांग्रेस पार्टी पर आरोप लगाया है कि कांग्रेस सरकार ने 6 जून 2006 को थर्मल प्लांट के निर्माण का कार्य शुरू कर दिया तथा 27 फरवरी 2010 को केन्द्रीय पर्यावरण एक वन मंत्रालय से थर्मल प्लांट की अनुमति ई एस ई द्वारा दे दी गयी थी। पार्टी ने कहा कि तत्कालीन सरकार ने थर्मल प्लांट के 30 मेगावॉट के प्रोजेक्ट को कम कर 10 मैगावाट कर दिया गया तथा जन आपत्तियों को दर किनार कर दिया गया। इससे स्पष्ट हैं कि तत्कालीन कांगेस पार्टी की सरकार जे पी के साथ मिली हुई थी।