राज्य में 9 मई से आरम्भ होगी अटल स्कूल यूनीफार्म योजना

शिमला। प्रदेश के सभी राजकीय स्कूलों में 9 मई, 2012 से ‘अटल स्कूल यूनिफार्म योजना’ आरम्भ की जाएगी। इस योजना से सभी स्कूली विद्यार्थियों में एकरूपता आएगी और उनका आत्मविश्वास भी बढ़ेगा। मुख्यमंत्री प्रो. प्रेम कुमार धूमल ने आज हमीरपुर जिला के गब्बर में एक विशाल जनसमूह को सम्बोधित करते हुए यह जानकारी दी। 

मुख्यमंत्री ने इससे पहले कक्कड़ में नवनिर्मित आयुर्वेदिक स्वास्थ्य केन्द्र क्षेत्र की जनता का समर्पित किया और गब्बर में नवनिर्मित त्रिलोकीनाथ मंदिर परिसर को भी पूजा प्रतिष्ठा के बाद श्रद्धालुओं के लिए खोला।
प्रो. धूमल ने कहा कि सर्वश्रेष्ठ विकास करने वाली पंचायतों को पुरस्कृत करने के लिए सरकार ने आदर्श ग्राम पंचायत योजना आरम्भ की है, जिसके अंतर्गत राज्य, जिला और उपमण्डल स्तर पर पुरस्कार प्रदान किए जाते हैं। उन्होंने लोगों का आह्वान किया कि सामाजिक एवं आर्थिक विकास के लिए सरकार की योजनाओं का भरपूर लाभ उठाएं, जिनमें से अधिकांश पंचायतों के माध्यम से कार्यान्वित की जा रही हैं।
उन्होंने कहा कि सभी विद्यार्थियों को स्कूल यूनिफार्म साल में दो बार प्रदान की जाएगी, पहले दाखिले के समय और बाद में अक्तूबर माह में। इस योजना से पहली से दसवीं कक्षा तक के 10.5 लाख विद्यार्थी लाभान्वित होंगे। प्रत्येक विद्यार्थी की स्वास्थ्य जांच और उन्हें पेट के कीड़े मारने की दवाइयां उपलब्ध करवाने के उद्देश्य से आरम्भ किए गए मुख्यमंत्री विद्यार्थी स्वास्थ्य कार्यक्रम का दूसरा चरण आरम्भ कर दिया गया है। इसके अलावा 72 और दंत चिकित्सकों की भर्ती की गई है जो विद्यार्थियों के दांतों की स्वास्थ्य जांच में सहयोग देंगे। सरकार बीपीएल परिवार के प्रत्येक वरिष्ठ नागरिक को ‘मुस्कान योजना’ के अन्तर्गत निःशुल्क डेंचर भी उपलब्ध करवा रही है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि कन्या भू्रण हत्या को लेकर समाज के प्रत्येक वर्ग विशेषकर महिलाओं को जागरूक बनाने की आवश्यकता है। भू्रण परीक्षण के सम्बन्ध में जानकारी देने वाले व्यक्ति को पुरस्कृत करने का प्रावधान किया गया है। सरकार ने महिला सशक्तिकरण को प्राथमिकता दी है और उन्हें उच्च स्तर तक निःशुल्क शैक्षणिक सुविधाएं प्रदान की जा रही है। सरकार ने निर्णय लिया है कि अनुसूचित जाति से सम्बन्धित बीपीएल परिवार की महिलाओं को माता शबरी सशक्तिकरण योजना के अन्तर्गत 50 प्रतिशत उपदान पर एलपीजी कुनैक्शन दिए जाएंगे। प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र

में ऐसे 75 एलपीजी कुनेक्शन दिए जाएंगे। सरकार ने 70 प्रतिशत से अधिक अपंगता वाले व्यक्तियों को भी सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना के दायरे में लाया है और 80 वर्ष या इससे अधिक आयु वाले वरिष्ठ नागरिकों की पेंशन को बढ़ाकर 600 रुपये प्रतिमाह किया गया है।
प्रो. धूमल ने कहा कि सरकार की दूरदर्शी एवं जन कल्याण आधारित योजनाओं से समाज का प्रत्येक परिवार लाभान्वित हुआ है। सभी राशनकार्ड धारकों को 6 आवश्यक वस्तुएं उपदान दरों पर उपलब्ध करवाने के लिए 150 करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे हैं। प्रत्येक उपभोक्ता को उपदान दरों पर घरेलू बिजली भी उपलब्ध करवाई जा रही है। इसी तरह अटल स्वास्थ्य सेवा योजना ग्रामीण क्षेत्रों में बहुत कारगर साबित हुई है, जिसके माध्यम से रोगियों को नजदीकी स्वास्थ्य संस्थान तक निःशुल्क पहुंचाने की सुविधा मिली है। सरकार गर्भवती महिलाओं को निःशुल्क संस्थागत प्रसूति, एम्बूलेंस सेवा और सम्बन्धित चिकित्सीय जांच की सुविधा भी दे रही है। इसके अलावा सरकारी स्वास्थ्य संस्थान में प्रसूति करवाने वाली महिला को एक वर्ष तक निःशुल्क स्वास्थ्य देखभाल की सुविधा भी दी जा रही है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्व भाजपा सरकार के कार्यकाल में संधोल क्षेत्र को 9 वाहनयोग्य पुलों से जोड़ा गया था, जिससे क्षेत्रवासियों को सभी मौसमों में सड़क सम्पर्क की सुविधा मिली। जंगलबैरी में भारतीय रिजर्व बटालियन के लिए 70 करोड़ रुपये का आधारभूत ढांचा स्थापित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि स्थानीय लोगों को पानी के 7500 नए कुनैक्शन दिए गए हैं, रक्कड़ उपकेन्द्र से निर्बाधित बिजली आपूर्ति के लिए 1.53 करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे हैं और लकड़ी के खम्भों को स्टील के खम्भों से बदला जा रहा है। कक्कड़-ऊहल क्षेत्र में विभिन्न सम्पर्क मार्गों और भवनों पर 26 करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे हैं। छम्ब गांव को वाहन योग्य सड़क के जरिये कक्कड़ से जोड़ने के लिए 1.72 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं, जबकि ऊहल-जंगलबैरी सड़क के स्तरोन्यन पर 4 करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे हैं। उन्होंने क्षेत्र में विभिन्न सम्पर्क मार्गों और महिला मण्डल भवनों के लिए धनराशि देने की घोषणा की। उन्होंने भेरडा-थुल्लू सड़क निर्माण के लिए 20 लाख रुपये स्वीकृत किए और आश्वासन दिया कि पथ परिवहन निगम की विभिन्न बस सेवाओं को क्षेत्र में बहाल किया जाएगा।
प्रो. धूमल ने लोगों का आह्वान किया कि भारत की उच्च परम्पराओं का निर्वहन करते हुए बुजुर्गों और अपने अभिभावकों का आदर एवं सम्मान करें। उन्होंने
कहा कि वृद्ध अभिभावकों, गरीब और पात्र लोगों की सेवा ही वास्तव में मोक्ष का उपयुक्त माध्यम है।
क्षेत्र के लोगों की धार्मिक एवं विकासात्मक आवश्यकता के लिए उदारतापूर्वक योगदान देने के लिए उन्होंने श्री भीम सिंह राणा का आभार व्यक्त किया, जो अपने व्यवसाय के कारण उड़ीसा में होने के बावजूद अपने पैतृक गांव के लोगों की सेवा कर रहे हैं।
मुख्यमंत्री ने बाद में गब्बर से छम्ब के लिए हिमाचल पथ परिवहन निगम की बस को रवाना किया।
कांगड़ा केन्द्रीय सहकारी बैंक के अध्यक्ष श्री रसील सिंह मनकोटिया ने बाहरी राज्यों से प्रदेश को लाई जाने वाली पवित्र मूर्तियों पर वैट हटाने के लिए मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया। उन्होंने महिला सशक्तिकरण के लिए चलाई गई विभिन्न योजनाएं आरम्भ करने के लिए भी आभार व्यक्त किया।
सुजानपुर भाजपा मण्डल के महासचिव श्री वीरेन्द्र ठाकुर ने त्रिलोकीनाथ मंदिर के पूजा समारोह में शामिल होने, क्षेत्र में हर गांव को वाहन योग्य सड़क से जोड़ने और महिला मण्डल भवनों के लिए धनराशि उपलब्ध करवाने पर मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया।
त्रिलोकीनाथ मंदिर समिति के अध्यक्ष ने मुख्यमंत्री का स्वागत किया और पूजा प्रतिष्ठा की अगुवाई के लिए उनका धन्यवाद किया।
उड़ीसा से आए श्रद्धालु श्री गुरमीत सिंह ने भी इस अवसर पर अपने अनुभव सांझा किए और कहा कि पिछले कुछ वर्षों में विकास के मामले में प्रदेश में आशातीत परिवर्तन हुए हैं।