भाजपा का आरोप दोनों केन्द्रीय मंत्री नहीं कर सके प्रदेश के हितों की रक्षा

शिमला, 12 अप्रैल।

भारतीय जनता पार्टी ने कहा है कि दो केन्द्रीय मंत्री वीरभद्र सिंह व आनंद शर्मा के बीच चल रहे सत्ता संघर्ष के कारण केन्द्र सरकार द्वारा हिमाचल के अधिकारों की अनदेखी की जा रही हैं और प्रदेश केन्द्र की उपेक्षा के कारण अधिकारों से वंचित रह रहा हैं। पार्टी ने कांग्रेस पर आरोप लगाया कि कांग्रेस पार्टी के हिमाचल के अधिकारों के प्रति रूचि कम हैं और प्रदेश सरकार के विरूद्ध दुष्प्रचार पर ज्यादा ध्यान हैं।
 
वीरवार को शिमला से जारी एक बयान में पार्टी प्रवक्ता गणेश दत ने कहा कि कांग्रेस में सत्ता संघर्ष के कारण हिमाचली हितों की अनदेखी हो रही हैं। दत्त ने कांग्रेस पर आरोप लगाया कि वह केन्द्र सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, घोटालों तथा दिन प्रतिदिन केन्द्र की गिरती लोकिप्रयता के कारण प्रदेश के कांग्रेसी नेता भाजपा सरकार पर झूठे व तथ्यहीन बयान देकर जनता को भ्रमित करने का प्रयास करते हैं।

भारतीय जनता पार्टी ने कहा है कि कांग्रेस पार्टी न जनतंत्र में विश्वास रखती है न न्यायपालिका में तथा न ही किसी आयोग पर। प्रदेश में सरकार द्वारा बेनामी सौदों, 118 के दुरूपयोग तथा भूमि सम्बन्धी विवादों की जांच के लिए गठित आयोग की रिपोर्ट आने के पश्चात कांग्रेस पार्टी कटघरे में खड़ी हो गयी हैं क्योंकि जितने भी बेनामी सौदे हुए हैं तथा 118 का दुरूपयोग हुआ हैं, वह कांग्रेस कार्यकाल में हुआ हैं। कांग्रेस पार्टी अपने शासन में घोटाले होने पर जनता से माफी मांगने के स्थान पर उल्टा भाजपा सरकार पर आरोप लगाती नहीं थकती जो कि दुर्भाग्यपूर्ण हैं।