फल उत्पादकों को इस वर्ष मिलेंगे स्टैंण्डर्ड यूनिवर्सल कार्टन

शिमला, 27अप्रैल।

फल उत्पादकों को पैकिंग की बेहतर सुविधा प्रदान करने के लिए प्रदेश सरकार इस वर्ष स्टैंण्डर्ड यूनिवर्सल कार्टन उपलब्ध करवाएगी। स्टैंण्डर्ड यूनिवर्सल कार्टन अच्छी गुणवता वाला कार्टन है जिसमें सेब के खराव होने की संभावना बहुत ही कम होती है।

सोमवार को शिमला में उद्यान विभाग के अधिकारी ने बताया कि सेब के विपणन में मौजूदा टेलिस्कोपिक गत्ते के कार्टन के स्थान पर स्टैंडर्ड यूनिवर्सल कार्टन के प्रयोग की आवश्यकता व इसकी उपयोगिता को देखते हुए सरकार ने एक समिति का गठन किया था। फलों के विपणन में पैकिंग की महत्वपूर्ण भूमिका है। यद्यपि पहले भी फल उत्पादन की ग्रेडिंग व पैकिंग में सुधार लाने के लिये अनेक प्रयास किए गए हैं, किन्तु इस दिशा में और सुधार की आवश्यकता है।

उन्होंने बताया कि समिति ने स्टैंडर्ड यूनिवर्सल कार्टनों की पर्याप्त मात्रा व समय पर उपलब्धता सुनिश्चित करने क लिए कार्टन निर्माताओं के साथ बैठक कर अंतिम निर्णय लिया है। सरकार बागावानों की सुविधा के लिए इन कार्टन को इस बार प्रायोगिक तौर पर पहली बार प्रयोग में लाने जा रही है। इन्हें एचपीएमसी, हिमफैड और निजी कार्टन निर्माताओं के माध्यम से बागवानों को उपलब्ध करवाया जाएगा।

यह निर्णय भी लिया गया है कि जिन बागवानों के पास गत वर्ष के टेलिस्कोपिक कार्टन उपलब्ध हैं वे उन्हीं का प्रयोग कर सकते है। बागवानों से आग्रह किया जएगा कि इन कार्टनों में केवल 20 कि.ग्रा. सेब की ही पैकिंग करें।