नगर निगम शिमला से काट ड़ाले बीस हजार वोट, कांग्रेस राज्यपाल से करेगी शिकायत

शिमला, 01 अप्रैल ।

नगर निगम शिमला के चुनाव नजदीक आते की आरोप प्रत्यारोप का दौर आंरभ हो गया है। नगर निगम शिमला ने पार्टियों को मिलने वाले चुनाव चिन्ह जारी किए हैं। वहीं, कांग्रेस पार्टी ने बीजेपी पर शिमला नगर निगम से बीस हजार वोटों को वोटर लिस्ट से काटे जाने का आरोप लगाया है। कांग्रेस का कहना है कि नगर निगम शिमला ने चुनावों से पहले वनने वाली वोटर लिस्ट भाजपा कार्यकर्ताओं के ईशारे पर तैयार की है और कांग्रेस समर्थक लोगों के जानवुझ कर वोट कोटे है। कांग्रेस ने यहां तक भी आरोप लगाया है कि कई वार्डों में तो कांग्रेस के वर्तमान पार्षदों के वोट भी काट ड़ाले हैं।

रविवार को शिमला में कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता कुलदीप राठौर ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि नगर निगम शिमला में जो वोटर लिस्ट वन रही उसमें वडे पैमाने पर धांधली हो रही है। उन्होंने कहा कि पिछले नगर निगम के चुनावों एक लाख से अधिक मतदाता थे लेकिन इस बार जो वोटर लिस्ट जारी हुई उसमें वोटों की संख्या अस्सी हजार रह गई है। इसकी कांग्रेस पार्टी  राज्यपाल से शिकायत करने जा रही है।

राठौर ने कहा कि नगर निगम शिमला के कर्मचारियों ने सरकार के ईशारे पर वोटर लिस्ट तैयार की है। वोटर लिस्ट में नाम न होने पर आपति दायर करने के लिए भी कम समय दिया गया है। ऐसे में बीस हजार से अधिक वोटर चार अप्रैल तक जो कि आपति दायर करने की अंतिम तिथि है, कैसे आपति दर्ज करवा सकेंगे।

उन्होंने आरोप लगाया कि जहां जहां पर कांग्रेस के पार्षद हैं वहां वहां पर सबसे अधिक वोट काटे गए हैं। कई स्थानों पर कांग्रेस प्रत्याशियों के भी वोट काटे गए हैं। मेयर मधु सूद ने बताया कि उनके वार्ड से इस बार 700 वोट काटे गए हैं। जबकि चमियाना वार्ड से महेंद्र चौहान का कहना है कि उनके वार्ड से सबसे अधिक 2600 के करीव वोट काटे गए हैं।

कुलदीप राठौन ने कहा कि इस मामले को लेकर कांग्रेस पार्टी सोमवार को राज्यपाल से मिलेगी और  अपनी आपति दर्ज करवाएगी। उन्होंने कहा कि वे चुनाव आयुक्त से भी मिले थे लेकिन उन्होंने पक्षपात किया है। कांग्रेस नेता ने भाजपा पर धन वल के प्रयोग से चुनाव जीतने का भी आरोप लगाया।

राठौर ने सरकार पर नगर निगम के कामों पर हस्तक्षेप करने का भी आरोप लगाया । उन्होने कहा कि सरकार जवाहर लाल शहरी नवीरकरण के तहत आए पैसे का उपयोग करने में विफल रही है। उन्होंने शहरी आवास मंत्री महेंद्र सिंह पर नगर निगम शिमला के पैसे को अपने विधानसभा क्षेत्र में ले जाने का भी आरोप लगाया। राठौर ने कहा कि कांग्रेस पार्टी इस मुद्दे को लेकर शहरी आवास मंत्री के इस्तीफे की मांग करती है।