जीर्णोद्धार के उपरांत श्री अवाहदेवी मंदिर श्रद्धालुओं के लिए खुला

शिमला, 01 अप्रैल।

हमीरपुर के प्रमुख शक्तिपीठ श्री अवाहदेवी जीे को जीर्णोद्धार के उपरांत श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया गया है। मुख्यमंत्री प्रो. प्रेम कुमार धूमल ने आज राम नवमी के शुभ अवसर पर इस जिले के इस प्राचीन एवं प्रमुख शक्ति पीठ में हवन एवं पूजा कर इसे लोगों के लिए खोला। श्री अवाहदेवी जी शक्ति पीठ हमीरपुर जिला के सबसे ऊंचे स्थान पर स्थित है और देश-विदेश के श्रद्धालुओं की यहां गहरी आस्था है। मंदिर का जीर्णोद्धार राजस्थान के विश्व प्रसिद्ध सफेद संगमरमर से किया गया है। इस कार्य को मकराणा के मुस्लिम कारीगरों हाजी शराफत अली व हाजी लियाकत अली ने पूरा किया। जीर्णोद्धार का कार्य 67.50 लाख रुपये से पूरा किया गया है।

इस अवसर पर श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हमीरपुर जिला में बाबा बालक नाथ जी, सुजानपुर, नादौन और गसौता मंदिरों का जीर्णोद्धार किया जा रहा है और इन सभी स्थानों पर श्रद्धालुओं की के लिए बुनियादी सुविधाएं भी जुटाई जा रहीं है। धूमल ने कहा कि बाबा बालकनाथ जी शक्तिपीठ को शाह तलाई से रज्जू मार्ग के माध्यम से जोडऩे की परियोजना पर विचार किया जा रहा है।

शिक्षा मंत्री श्री ईश्वर दास धीमान, विधायक  बलदेव शर्मा एवं उर्मिल ठाकुर, हि.प्र. पूर्व सैनिक कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष एवं महाप्रबन्धक एम.सी.परमार, ए.पी.एम.सी. के अध्यक्ष प्यारे लाल शर्मा, जिला परिषद अध्यक्ष सरला शर्मा, जिला भाजपा अध्यक्ष देस राज शर्मा, भाजायुमो के प्रदेश अध्यक्ष नरेन्द्र अत्री, नगर परिषद हमीरपुर के अध्यक्ष दीप कुमार, उपायुक्त राजेन्द्र सिंह, पुलिस अधीक्षक कुलदीप शर्मा सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी और क्षेत्र के गणमान्य व्यक्ति इस अवसर पर उपस्थित थे।