चेन्नई में खुली महिंद्रा की रिसर्च वैली

शिमला, 13 अप्रैल।

महिंद्र एंड महिंद्र लिमिटेड ने चेन्नई में विश्वस्तरीय इंजीनियरिंग रिसर्च और विकास केंद्र की शुरूआत की है। महिंद्रा रिसर्च वैली का उद्घाटन पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम ने किया। इस रिसर्च वैली में ऑटोमोबाइल्स और टै्रक्टर के लिए इंजीनियरिंंग रिसर्च और उत्पाद विकास शाखाएं होंगी। महिंद्रा रिसर्च वैली (एमआरवी) चेन्नई में महिंद्र वल्र्ड सिटी में 125 एकड़ जमीन पर बनी हुई है और इसका निर्माण 650 करोड़ रुपए से किया गया है।

रिसर्च वैली को प्रसिद्ध वास्तुशिल्प चाल्र्स कोरिया ने डिजाइन किया है। उद्घाटन समारोह में महिंद्र समूह के उपाध्यक्ष  व प्रबंध निदेशक आनंद महिंद्रा ने कहा कि उत्पाद निर्माण और इंजीनियरिंग किसी भी कंपनी के लिए जरुरी होती है। उन्होंने कहा कि ऑटोमोबाइल्स और ट्रैक्टर की डिजाइनिंग और विकास आपसी समझ, पारदर्शिता और विश्वास से की जा सकती है। 

इस दौरान महिंद्रा कंपनी के अध्यक्ष पवन गोयनका ने कहा कि इस रिसर्च वैली में कम लागत में स्वदेशी डिजाइन तैयार किए जा सकते हैं। इस वैली से ऑटोमेटिव डिजाइन और विकास कोविश्व स्तर पर नई पहचान मिलेगी। उन्होंने कहा कि इस केंद्र में डिजाइनिंग, निर्माण , विपणन, वेंडर विकास और शोध किए जा सकेंगे। इसमें इंजन डवलपमेंट सेंटर इंजन विकास में शामिल विभिन्न समस्याओं को सुलझाने के लिए समूहों की नियुक्ति की जाएगी।

महिंद्र वल्र्ड सिटी के तहत बनी रिसर्च वैली में देश का पहला पूरी तरह नियोजित और एकीकृत बिजनेस शहर है जो तमिलनाडु औद्योगिक विकास निमग के बीच पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप मॉडल के आधार पर बनाई गई है।