एमडीयू करेगी डिस्टेंस एजूकेशन सिस्टम से तौबा

स्टडी सेंटरों पर गिर सकती है गाज
रोहतक।
हरियाणा प्रदेश में चल रहे महर्षि दयानंद यूनिवर्सिटी के स्टडी सेंटरों पर ताला लगने की आशंका है। यह स्थिति डिस्टेंस एजूकेशन कौंसिल के नियमों को फोलो करने से बन रही है। सूचना से सेंटर संचालकों में हडक़ंप है।
डिस्टेंस एजूकेशन के जरिए शिक्षा प्रदान करने के लिए एमडीयू ने न केवल हरियाणा में, देश के दूसरे प्रदेशों में भी धड़ल्ले से स्टडी सेंटर खोले थे। यूजीसी को हुई शिकायतों के बाद दूसरे प्रांतों में खोले गए स्टडी सेंटरों को तो पहले ही बंद किया जा चुका है।
यूनिवर्सिटी प्रशासन को अब नए दिशा निर्देश मिले हैं। जिनको फोलो करने से हरियाणा के अंदर चल रहे हजारों स्टडी सेंटर बंद हो सकते हैं। इनमें वे स्टडी सेंटर भी हैं जो वर्षों पुराने हैं।
हरियाणा से बाहर दूसरे प्रांतों में स्टडी सेंटर स्थापित करने वाली प्राइवेट कंपनियों को करोड़ों रुपए का चूना लग चुका है। इन्हीं कंपनियों ने भी हरियाणा में हजारों स्टडी सेंटर खोले हैं। इन पर भी यूनिवर्सिटी की गाज गिर सकती है। गलोबल पार्टनर कंपनी के एक निर्देशक ने बताया कि यूनिवर्सिटी उनके साथ अन्याय कर रही है। हरियाणा के सेंटरों पर भी ताला लग गया तो वे और संकट में आ जाएंगे।
यूनिवर्सिटी के वीसी प्रो. रामफल हुड्डा ने बताया कि डेक की ओर से इस संदर्भ में एक पत्र आया है। उस पत्र में गलती से कुछ लिखा गया है या सही है उस पर विचार करना है। पत्र की भाषा के मुताबिक एक सेंटर के लिए 60 एडमिशन की ही अनुमति  हो सकती है। अगर ऐसा होगा तो कुछ बचने की संभावना नहीं है।