भाजपा सांसद राजन सुशांत को पार्टी व संसदीय पार्टी दोनों से ही बाहर कर दिया

लंबी अटकलों व चर्चाओं के बाद आखिर कांगड़ा से भाजपा सांसद राजन सुशांत को पार्टी व संसदीय पार्टी दोनों से ही बाहर कर दिया गया है। तकनीकी तौर पर इसे निलंबित करना बताया गया है। रविवार को हुई संसदीय बोर्ड की बैठक के बाद राजन सुशांत को जो पत्र भेजा गया है, उसमें कहा गया है कि राजन सुशांत लगातार अनुशासनहीनता कर रहे थे। पार्टी विरोधी गतिविधियों के भी उन पर संगीन आरोप थे। चेतावनी दिए जाने के बावजूद वह अपनी बयानबाजी पर अंकुश नहीं लगा सके। लिहाजा उन्हें संसदीय पार्टी व मुख्य पार्टी की सदस्यता से निलंबित किया जाता है। राजन सुशांत पिछले आठ महीने से न केवल प्रदेश सरकार, बल्कि पार्टी के लिए भी दिक्कतें खड़ी कर रहे थे। खीमीराम जब प्रदेश अध्यक्ष थे तो उन्होंने भी हाइकमान से मिलकर राजन सुशांत के बयानों का असर पार्टी के ऊपर पड़ने से हो रहे नुकसान का हवाला देकर उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी। यही नहीं, हाइकमान ने फिर राजन सुशांत के मसले पर ढील दी, मगर इसी के बाद उन्होंने मुख्यमंत्री प्रो. धूमल के खिलाफ भी परोक्ष तरीके से बयान दे डाले। यहां तक कि शिमला में हुए एक आयोजन के दौरान उन्होंने कांग्रेस के युवा संगठन के अध्यक्ष तक को निमंत्रण देकर पार्टी में नई बहस छेड़ दी। इसके बाद पार्टी हाइकमान की तरफ से उन्हें फिर चेतावनी दी गई। कुछ समय के लिए राजन सुशांत शांत रहे, मगर फिर इसके बाद उन्होंने अपने तेवर तीखे कर लिए और भ्रष्टाचार के मुद्दे उठाकर प्रदेश सरकार की इस मुहिम पर भी सवाल उठा दिए। जब से हिमाचल लोकहित पार्टी में उनके पुत्र धैर्य सुशांत को शामिल करने के बाद युवा संगठन का नेतृत्व सौंपा गया था, तभी से ये चर्चाएं तेज हो गई थीं कि राजन सुशांत का अब जाना लगभग तय है और हुआ भी य

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *