अपने नेताओं के खिलाफ कोर्ट जाएंगे सुशांत

पार्टी से निलंबित कांगडा-चंबा के सांसद डा. राजन सुशांत अपने नेताओं के खिलाफ कोर्ट जाएंगे। उनका कहना है कि उन्होंने मुख्यमंत्री तथा दो अन्य मंत्रियों के खिलाफ भ्रष्टाचार के सबूत भाजपा केंद्रीय हाइकमान को सौंपे थे। अब इन सबूतों के साथ वह न्यायालय में भ्रष्टाचार के खिलाफ जा रहे हैं। डा. राजन सुशांत ने अपने निलंबन के बाद पहली बार ‘दिव्य हिमाचल’ को दूरभाष पर बताया कि वह जल्द ही हिमाचल लौट कर धूमल सरकार के खिलाफ बड़ा विस्फोट करने आ रहे हैं। उन्होंने केंद्रीय हाइकमान से दोबारा अपील की है कि हिमाचल में भाजपा को बचाने के लिए मुख्यमंत्री को हटाना जरूरी है। उन्होंने कहा कि मैंने हमेशा भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई लड़ी है और भाजपा केंद्रीय हाइकमान ने मुझे निलंबित करके इसी का इनाम दिया है। उन्होंने कहा कि मैंने हमेशा मुख्यमंत्री तथा आईपीएच मंत्री रविंद्र रवि और स्वास्थ्य मंत्री राजीव बिंदल के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोप लगाए हैं। सोमवार को राजीव बिंदल के त्याग पत्र से यह साबित हो गया है कि भ्रष्टाचार के खिलाफ उनके विरुद्ध लगाए गए आरोप सही थे। सांसद ने कहा कि मैं जल्द ही हिमाचल आकर अपने समर्थकों के साथ बैठक कर रहा हूं। पार्टी से निलंबित राजन सुशांत ने कहा कि भविष्य की रणनीति भी उनके समर्थक तय करेंगी। उनका कहना है कि हिलोपा में जाना या कोई दूसरा संगठन खड़ा करने के सारे विकल्प उनके पास खुले हैं, जिस पर फैसला मेरे समर्थकों को लेना है। डा. राजन सुशांत ने कहा कि हिमाचल के सीएम को जल्द हटाया नहीं गया तो प्रस्तावित विधानसभा चुनावों में भाजपा दहाई का अंक भी नहीं छू पाएगी। उनका कहना है कि अब भी हाईकमान के पास वक्त है। डा. राजन सुशांत ने कहा कि अब पार्टी ने उन्हें बाहर करके किसी भी तरह के बयान के लिए स्वतंत्र कर दिया है। इससे पहले उन्होंने अपने राजनैतिक जीवन में ही पार्टी के सिद्धांतों में रहकर बयान दिए हैं।